Mukhtar Ansari Death: सुपुर्द-ए-खाक हुआ मुख्तार अंसारी, देर रात गाज़ीपुर पहुंचा था शव

मुख्तार अंसारी की 28 मार्च की रात को हार्ट अटैक से मौत हो गई थी।
Mukhtar Ansari
Mukhtar Ansariraftaar.in

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क। गैंगस्टर-नेता मुख्तार अंसारी को आज सुपुर्द-ए-खाक किया गया। अंसारी की 28 मार्च की रात हार्ट अटैक से मौत हो गई थी। वो बांदा जेल में बंद था, जहां तबीयत खराब होने के बाद उसे अस्पताल लाया गया था। यहां हार्ट अटैक से उसकी मौत हो गई थी।

मुख्तार अंसारी का शव कड़ी सुरक्षा के बीच शुक्रवार की रात को बांदा से गाज़ीपुर लाया गया। गाज़ीपुर में ही उसके पैतृक कब्रिस्तान में उसके शव को दफनाया गया। गाज़ीपुर पुलिस ने शहर और आसपास के इलाकों में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी है। कब्रिस्तान में केवल परिवार के लोगों को जाने की इजाज़त दी गई थी।

मुख्तार अंसारी के भाई सिबातुल्लाह अंसारी ने ANI को बताया, "हमें बॉडी देर से मिली इसलिए अंतिम संस्कार रात में नहीं हो सका। हम शनिवार की सुबह अंतिम संस्कार करेंगे। मेरी सभी से गुज़ारिश है कि उनके लिए प्रार्थना करें।"

जेल में बंद था मुख्तार अंसारी

मुख्तार अंसारी के खिलाफ यूपी और पंजाब में कई मामले दर्ज थे। 13 मार्च को ही वाराणसी के एमपी-एमएलए कोर्ट ने मुख्तार अंसारी को हथियारों का फर्जी लाइसेंस जारी करने के मामले में आजीवन कारावास की सज़ा सुनाई थी। मुख्तार 2005 से जेल में बंद था। बीच में दो साल के लिए उसे ट्रांजिट रिमांड पर पंजाब के रोपड़ जेल भी ले जाया गया था, जहां से 2021 में अंसारी को वापस लाया गया था।

आखिरी कॉल में बताई थी कमज़ोरी की बात

न्यूज़ चैनल आज तक ने शुक्रवार को एक ऑडियो रिकॉर्डिंग चलाई, जो कथित तौर पर मुख्तार अंसारी के उसके बेटे उमर से आखिरी बातचीत का ऑडियो था। इसमें मुख्तार अंसारी बार-बार कह रहा था कि उसका शरीर कमज़ोर हो रहा है, वो उठ-बैठ नहीं पा रहा है, बार-बार बेहोश हो रहा है। अंसारी ने अपनी मौत से कुछ दिन पहले ही बाराबंकी कोर्ट को बताया था कि 19 मार्च को उसके खाने में कुछ मिलाकर दिया गया था। खाना खाने के बाद उसकी नसों में दर्द होने लगा था और बाद में वो दर्द पूरे शरीर में फैल गया था। मुख्तार के बेटे उमर ने भी आरोप लगाया था कि मुख्तार को जेल में खाने में धीमा जहर दिया जा रहा था।

Related Stories

No stories found.