बिहार शिक्षा विभाग में जींस-टीशर्ट पहनने पर रोक, पीके ने कहा- मंत्री ने रणनीति के तहत दिया बयान

प्रशांत किशोर ने कहा शिक्षा मंत्री ने जो बयान दिया है वह स्लिप ऑफ टंग नहीं है, बल्कि ये RJD की सोची-समझी रणनीति है।
chandrashekhar,prashant kishor
chandrashekhar,prashant kishor

नई दिल्ली, रफ्तार न्यूज डेस्क। बिहार के शिक्षा मंत्री चंद्रशेखर की ओर से बिहारी युवाओं को अयोग्य कहे जाने पर चुनावी रणनीतिकार और जन सुराज के संरक्षक प्रशांत किशोर ने शिक्षा मंत्री निशाना साधा। उन्होंने कहा कि शिक्षा मंत्री ने जो बयान दिया है वह स्लिप ऑफ टंग नहीं है, बल्कि ये RJD की सोची-समझी रणनीति है। शिक्षा मंत्री ने जान-बूझकर ऐसा बयान दिया है। जबकि शिक्षा मंत्री को यह बताना चाहिए कि जो सत्र 3 साल में खत्म होने चाहिए, उसमें 5 साल या उससे अधिक का समय क्यों लग रहा है?

रणनीति के तहत दिया बयान

उन्होंने गुरुवार को कहा कि चंद्रशेखर जो कह रहे हैं ये उनका एजेंडा नहीं है वो जिस दल में हैं, वो इसी तरह की राजनीति करता है। पीके ने कहा कि असल में RJD समाज में लोगों को उलझा कर रखना चाहती है। राजद का काम क्या है? समाज में धार्मिक उन्माद फैलाना, जातियों में झगड़ा लगाना, किसी से कुछ कड़वी बात कहलवाना ताकि समाज का कोई वर्ग रिएक्ट करे और समाज आपस में उलझ जाए, ताकि लोग अपने बच्चों की पढ़ाई, अपने बच्चों का भोजन, अपने बच्चों का विकास सब छोड़ कर इन्हीं सब मुद्दों पर वोट दें। पीके ने कहा कि शिक्षा मंत्री तो खुद पढ़े-लिखे हैं। उन्हें मौजूदा समस्याओं को समझना चाहिए, उनपर ध्यान देना चाहिए।

बिहार में साइंस-मैथ पढ़ाने वाले छात्र नहीं- शिक्षा मंत्री

आपको बता दें शिक्षा मंत्री चंद्रशेखर ने नई शिक्षक नियुक्ति नियमावली में संशोधन के बाद कहा था कि बिहार में साइंस-मैथ पढ़ाने वाले छात्र नहीं है। इससे बाहरी बेरोजगार युवाओं को बिहार में शिक्षक बनने का अवसर दिया दिया जाएगा। शिक्षा मंत्री के इसी बयान पर पीके ने पलटवार किया है।

बिहार शिक्षा विभाग में जींस और टीशर्ट पहनने पर रोक

बिहार शिक्षा विभाग के निदेशक प्रशासन शिक्षा विभाग सुबोध कुमार चौधरी ने एक आदेश जारी करते हुए कहा है सभी कर्मचारी और अधिकारियों को फॉर्मल ड्रेस कोड का पालन करना होगा। शिक्षा विभाग द्वरा जारी लिखित आदेश में सभी कर्मचारियों और पदाधिकारियों के जींस और टीशर्ट पहनने पर रोक लगा दी गई है। आदेश में कहा गया है की शिक्षा विभाग में पदस्थापित कर्मचारी गरिमा के तहत ड्रेस पहनकर नहीं आ रहे जो कार्यालय ने नियमों के अनुसार सही नहीं है।

Related Stories

No stories found.