म्यांमार के रखाइन प्रांत को लेकर विदेश मंत्रालय ने जारी की एडवाइजरी, रखाइन से तुरन्त निकले भारतीय

म्यांमार के रखाइन में रह रहे भारतीयों के लिए भारतीय विदेश मंत्रालय ने एडवाइजरी जारी करते हुए कहा है कि वह जगह खतरे से खाली नहीं है। सभी भारतीय वहां से फौरन निकल जाएं।
The Ministry of External Affairs said that the Indians were from Rakhine
The Ministry of External Affairs said that the Indians were from RakhineSocial media

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क। म्यांमार के रखाइन राज्य में पिछले कुछ दिनों से तनावपूर्ण स्थिति बनी हुई है। जिसे देखते हुए भारतीय विदेश मंत्रालय ने एडवाइजरी जारी कर सभी भारतीयों से अपील की है कि वह रखाइन की यात्रा करने से बचें। वहां हालात ठीक नहीं है। जो भी भारतीय वहां मौजूद है। वह फौरन वहां से निकल जाएं। विदेश मंत्रालय ने अपने एडवाइजरी में आगे कहा कि रखाइन की बिगड़ी सुरक्षा स्थिति के साथ साथ लैंडलाइन, अन्य साधनों में व्यवधान पैदा हो गया है। रोजमर्रा की मिलने वाली वस्तुओं का संकट गहरा गया है। इसलिए सभी भारतीय वहां से फौरन निकल जाएं। आगे की स्थित और भी तनावपूर्ण हो सकती है।

क्यों लिया गया फैसला?

दरअसल म्यांमार के रखाइन सहित अन्य इलाके पिछले कुछ महीने से हिंसा ग्रस्त है। जिसकी वजह से स्थानीय लोगों के साथ साथ एनआरआई को परेशानी का सामना करना पड रहा है। बीते साल अक्टूबर महीने में सशस्त्र जातिय समूह और सत्तारूढ़ जुंटा के बीच संघर्ष जारी है। म्यांमार की जुंटा ने साल 2021 में तख्तापलट के जरिए म्यांमार की सत्ता हथिया ली थी। और फिर लोकतांत्रिक चुनावों को मान्यता देने से इनकार कर दिया। जिसमें पूर्व स्टेट काउंसलर आंग सान सू की पार्टी ने जीत दर्ज की थी।

घुसपैठिया भारत में क्यों दाखिल हुए?

म्यांमार में नवंबर 2023 के बाद से हिंसा में तेजी देखी गई है। हिंसा न सिर्फ म्यांमार इलाकों में बल्कि भारत में म्यांमार के सीमा के क्षेत्र में भी बड़ी है। म्यांमार की सेना सत्तारूढ़ पार्टी और अपने विरोधियों पर हवाई हमले कर रही। जिससे वहां के स्थानीय और अल्पसंख्यक नागरिक बचने के लिए भारत की सीमा में घुस आए हैं। आपको बता दें कि म्यांमार नागालैंड मणिपुर और कई पूर्वोत्तर के राज्यों के साथ लगभग 1640 किलोमीटर की लंबी सीमा साझा करता है।

भारतीय दूतावास में कराएं रजिस्टर

भारत के पड़ोसी देश म्यांमार में इस समय गृह युद्ध जैसे हालात बने हुए हैं। ऐसे मे भारतीय विदेश मंत्रालय ने भारतीयों के लिए एडवाइजरी करते हुए यह भी बताया कि जो लोग म्यांमार की राजधानी यंगून में रहने का प्लान कर रहे हैं। वह भारतीय दूतावास में जाकर खुद को पंजीकरण करा लें। क्योंकि आपात स्थिति के दौरान भारतीय नागरिकों का वहां से रेस्क्यू किया जा सके।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें- Hindi News Today: ताज़ा खबरें, Latest News in Hindi, हिन्दी समाचार, आज का राशिफल, Raftaar - रफ्तार:

Related Stories

No stories found.