Kawad Yatra 2023: जापान के टोक्यो में निकाली गई कांवड़ यात्रा, बिहार से गंगाजल लाकर किया भोलेनाथ का जलाभिषेक

Kawad Yatra 2023: दुनिया के तमाम देशों में होली, दीवाली और छठ जैसे आयोजन होते रहते हैं, किन्तु इस बार कांवड़ यात्रा भी सात समंदर पार जापान तक पहुंच गई है।
Kawad Yatra 2023
Kawad Yatra 2023

टोक्यो, हि.स.। दुनिया के तमाम देशों में होली, दीवाली और छठ जैसे आयोजन होते रहते हैं, किन्तु इस बार कांवड़ यात्रा भी सात समंदर पार जापान तक पहुंच गई है। जापान की राजधानी टोक्यो से कांवड़ यात्रा निकाली गई है। टोक्यो से सीतामा तक कावंड़ियों का उल्लास छाया रहा। बिहार से लाए गए गंगाजल से सीतामा के शिव मंदिर में भगवान भोलेनाथ का अभिषेक किया गया।

जापान की राजधानी टोक्यो से कांवड़ यात्रा शुरू हुई

जानकारी के मुताबिक कांवड़ यात्रा का उत्साह इस बार जापान तक पहुंच गया है। पवित्र सावन माह में भगवान भोलेनाथ का गंगा जल से अभिषेक करने के लिए जापान की राजधानी टोक्यो से कांवड़ यात्रा शुरू हुई। बिहार-झारखंड एसोसिएशन ऑफ जापान और बिहार फाउंडेशन की पहल पर भारी संख्या में कावंड़िये कांवड़ यात्रा के साथ बम भोले का उद्घोष करते हुए निकले। जापान में भारत के राजदूत सीबी जॉर्ज ने मुख्य अतिथि के रूप में कावंड़ियों को विदा किया।

गंगा जल से भगवान महादेव का किया गया जलाभिषेक

जापान में बिहार-झारखंड एसोसिएशन और बिहार फाउंडेशन के प्रमुख आनंद विजय सिंह ने बताया कि कांवड़ यात्रा के लिए बिहार के सुल्तानगंज से गंगाजल लाया गया है। टोक्यो के फुनाबोरी स्थित श्री राधा कृष्ण मंदिर से कांवड़ यात्रा शुरू हुई। यात्री सीतामा के शिव मंदिर तक कांधे पर पवित्र गंगाजल की कांवड़ लेकर सीतामा स्थित शिव मंदिर तक पहुंचे। वहां गंगा जल से भगवान महादेव का जलाभिषेक किया गया। रास्ते में जगह-जगह भारतवंशियों ने इन कांवड़ यात्रियों का स्वागत किया। कांवड़िये भी शिव के जयघोष में डूब कर भक्ति के गीत गाते चल रहे थे।

Related Stories

No stories found.