workers-associated-with-construction-work-will-now-be-able-to-travel-for-free-in-the-bus
workers-associated-with-construction-work-will-now-be-able-to-travel-for-free-in-the-bus

निर्माण कार्य से जुड़े मजदूर अब बस में कर सकेंगे फ्री यात्रा

नई दिल्ली, 4 मई (आईएएनएस)। दिल्ली में अब निर्माण कार्य से जुड़े मजदूरों को दिल्ली सरकार की बसो में किराया नहीं देना होगा। वे दिल्ली परिवहन निगम की बसों में मुफ्त सफर कर सकेंगे। देश की राजधानी दिल्ली में केजरीवाल सरकार ने बड़ा निर्माण कार्य में जाने वाले मजदूरों को बड़ी सौगात देते हुए महिलाओं के बाद अब उनके लिए भी मुफ्त बस सेवा का ऐलान किया है। दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने इसका ऐलान करते हुए कहा कि दिल्ली में निर्माण स्थल पर लगे बेलदार, मिस्त्री, बढ़ई, इलेक्ट्रिशन, गार्ड व अन्य मजदूरों के लिए राज्य सरकार आज से मुफ्त बस पास देगी। मनीष सिसोदिया ने मीडिया से बात करते हुए कहा, आज हमने बहुत महत्वपूर्ण फैसला लिया है। इस दौरान दिल्ली में निर्माण स्थलों पर काम करने वाले मजदूरों को आने जाने के लिए अब रुपए खर्च नहीं करने पड़ेंगे। इसके लिए सबको मुफ्त बस पास की सुविधा दी जा रही है। पहले सभी निर्माण मजदूरों को यात्रा के लिए कहीं न कहीं 1000 रुपये से 3000 रुपये प्रति माह खर्च करना पड़ता था। अब ऐसे लोगों को दिल्ली सरकार की ओर से पास दिया जाएगा। बसों में यह पास दिखाने पर उनसे कंडक्टर द्वारा पैसे नहीं लिए जाएंगे। इससे राज्य के करीब 10 लाख मजदूरों को फायदा होगा। उल्लेखनीय है कि दिल्ली सरकार ने अप्रैल माह में 23,256 निर्माण कार्य में लगे मजदूरों के लिए 11.6 करोड़ रुपए का अनुदान जारी किया है। दिल्ली सरकार इन मजदूरों के खाते में 5 हजार रुपए ट्रांसफर कर रही है। वहीं इस मसले पर उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि दिल्ली सरकार ने सभी पंजीकृत निर्माण श्रमिकों को शहर में वायु प्रदूषण को रोकने के लिए सर्दियों के दौरान लगाए गए निर्माण प्रतिबंध के कारण काम के नुकसान के लिए 5,000 का अनुदान देना शुरू कर दिया है। इस सुविधा का लाभ उठाने के लिए 10 लाख मजदूरों ने पंजीकरण करवा लिया है। गौरतलब है कि साल 2019 में दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने महिलाओं के लिए बस में मुफ्त सफर की शुरूआत की थी। इसके बाद अब इस फैसले को आगे बढ़ाते हुए इसे निर्माण कार्य से जुड़े मजदूरों के लिए भी लागू किया गया है। --आईएएनएस पीटीके/एएनएम

Related Stories

No stories found.