the-child39s-body-had-to-be-carried-on-a-bike-under-compulsion-in-andhra
the-child39s-body-had-to-be-carried-on-a-bike-under-compulsion-in-andhra

आंध्र में मजबूरी में बाइक पर ले जाना पड़ा बच्चे का शव

अमरावती, 5 मई (आईएएनएस)। एक चौंकाने वाली घटना में, आंध्र प्रदेश में एक आठ वर्षीय लड़के के शव को उसके रिश्तेदार मजबूरी में मोटरसाइकिल पर ले गए। एम्बुलेंस के मना करने पर उन्हें ऐसा करना पड़ा। यह घटना बुधवार को नेल्लोर जिले में हुई और गुरुवार को सोशल मीडिया पर इसका वीडियो वायरल हो गया। वीडियो में एक व्यक्ति बाइक पर पीछे बैठे लड़के का शव गोद में लिए नजर आ रहा है। उन्होंने आरोप लगाया कि 108 एम्बुलेंस के चालक ने नियमों का हवाला देते हुए शव ले जाने से इनकार कर दिया, जबकि शवों को श्मशान ले जाने के लिए महाप्रस्थानम वाहन उपलब्ध नहीं था। बुधवार को कनिगिरी जलाशय की मुख्य नहर में श्रीराम और ईश्वर (10) की डूबने से मौत हो गई। जहां ईश्वर के शव को उसके रिश्तेदार नहर से घर ले गए, वहीं श्रीराम को प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। जब श्रीराम के रिश्तेदारों ने 108 एम्बुलेंस से संपर्क किया, जो सरकार द्वारा नि: शुल्क संचालित की जाती है, तो ड्राइवर ने यह कहते हुए मना कर दिया कि नियम उसे अनुमति नहीं देते हैं। चूंकि महाप्रस्थानम वाहन भी उपलब्ध नहीं था, और कोई वाहन मिला नहीं, लड़के के परिजन बाइक पर शव को घर ले गए। राज्य में 10 दिनों में इस तरह की यह दूसरी घटना है। इससे पहले 25 अप्रैल को, तिरुपति के एक सरकारी अस्पताल में एम्बुलेंस के चालक द्वारा मोटी रकम की मांग के बाद एक व्यक्ति अपने 10 वर्षीय बेटे के शव को मोटरसाइकिल पर ले गया था। मोटी रकम का भुगतान करने में असमर्थ, वह व्यक्ति दोपहिया पर शव को तिरुपति से लगभग 90 किलोमीटर दूर अन्नामय्या जिले के चितवेल ले गया। --आईएएनएस एसकेपी

Related Stories

No stories found.