personality-of-the-week-nitsha-muliasha
personality-of-the-week-nitsha-muliasha

सप्ताह की शख़्सियतः नित्शा मुलियाशा

संजीव इजराइल की सेना में गुजरात की बेटीः इजरायल में नेतन्याहू की बारह साल पुरानी सरकार जाने के बाद सत्ता में आये यामिनी पार्टी के नेता नेफ्ताली बेनेट भी फिलिस्तीनी चरमपंथी संगठनों को बख्शने के मूड में नहीं हैं। नयी सरकार बनने के दो-चार दिनों बाद ही 15 जून को इजरायल ने तब गाजा पट्टी में जबर्दस्त हवाई हमले किये, जब फिलिस्तीनी चरमपंथी गुटों की तरफ से आग वाले गुब्बारे छोड़े गए। इन गुब्बारों से इजरायल में कई जगह आग लग गयी। जिसके बाद इजरायल ने पलटवार करते हुए हवाई हमले को अंजाम दिया। इजरायल की इस सैन्य टीम में गुजरात की एक बेटी नित्शा मुलियाशा भी थीं। गुजराती मूल की बीस वर्षीय नित्शा मुलियाशा इजरायल डिफेंस फोर्सेज टीम (आईडीएफ) का हिस्सा हैं। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक नित्शा मूल रूप से गुजरात के राजकोट के मनावदार तालुका स्थित गांव कोठाड़ी की रहने वाली हैं। वे इजरायल की सेना में भर्ती होने वाली पहली गुजराती लड़की हैं। उनका परिवार तेल अवीव में बसा हुआ है। इजरायल में 45 गुजराती परिवार हैं जिनमें से ज्यादातर हीरा कम्पनियों में काम करते हैं। नित्शा के पिता जीवाभाई मुलियाशा का कहना है कि इजरायल की शिक्षा व्यवस्था की वजह से बच्चों में लीडरशिप क्वालिटी विकसित होती है। इजरायल में 18 साल से अधिक आयु के सभी नागरिकों के लिए सैन्य सेवा में भर्ती अनिवार्य है। निशा भी दो साल पहले आईडीएफ में आईं। पिछले दो साल से नित्शा लेबनान, सीरिया, जॉर्डन और मिस्र की सीमा पर तैनात रहीं। फिलहाल वे गश डैन में तैनात हैं जहां से इजरायली सेना गाजा में हमास पर हमले कर रही है। नित्शा सहित उसकी अन्य सहयोगियों को युद्ध के दौरान इस्तेमाल होने वाले आधुनिक हथियारों और युद्ध कौशल के लिए प्रशिक्षित किया जाता है। सेना के साथ उनका ढाई साल का समय खत्म होने के बाद उन्हें पांच या दस साल की अवधि के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर करना होगा। जिसके दौरान वे अपनी योग्यता के मुताबिक इंजीनियरिंग, मेडिकल या कोई दूसरी अन्य मनपसंद पाठ्यक्रम कर सकती हैं। सेना ही उनकी इस पढ़ाई का खर्च उठाएगी। नित्शा के पिता जीवाभाई को अपनी बेटी पर गर्व है। वे बताते हैं कि सामान्य तौर पर वह आठ घंटे काम करती हैं लेकिन कई बार यह 24 घंटे में भी बदल जाता है। वह अपने काम को लेकर इतना प्रतिबद्ध है कि परिवार से उनकी मुलाकात सप्ताहांत में होती है या फिर कई बार महीनों बाद उनकी आपस में मुलाकात होती है। हिन्दुस्थान समाचार

Related Stories

No stories found.