मोदी सरकार के हुए 9 साल, समय के साथ बढ़ा और घटा बीजेपी का जनाधार

मोदी सरकार के 9 साल पूरे हो गए है। बीजेपी का जनाधार समय-समय पर बढ़ा और घटा है। आइए जानते हैं कितनी बदली बीजेपी की राजनीति समय के साथ।
BJP
BJP

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क। मैं नरेंद्र दास मोदी... यह शब्द 2014 में आज ही के दिन ये शब्द पूरे देश ने नई दिल्ली स्थित राष्ट्रपति भवन से सुने थे। मौका था नवगठित सरकार के शिलान्यास समारोह का था। इस कार्यक्रम में भारत और अन्य देशों के लगभग 4,000 व्यक्तियों ने भाग लिया था। तत्कालीन राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने शपथ लेने के लिए सबसे पहले नरेंद्र मोदी को मंच पर बुलाया। मोदी ने शपथ ली और उस दिन देश के 15वें प्रधानमंत्री बनें।

बीजेपी को पहली बार मिला पूर्ण बहुमत

2014 का आम चुनाव कुछ खास था, क्योंकि 30 साल बाद एक पार्टी को पूर्ण बहुमत मिला था। बीजेपी ने 282 सीटों पर जीत हासिल की थी। 1984 के आम चुनाव में कांग्रेस ने 414 सीटें जीतीं। इसके बाद, भाजपा ने 2019 के लोकसभा चुनावों में 303 सीटें जीतीं, जो किसी एक पार्टी की दूसरी सबसे बड़ी संख्या थी।

भाजपा की 7 राज्यों में सरकार थी

जब मोदी पहली बार प्रधानमंत्री बने थे, तब देश के सात राज्यों में भाजपा की सरकारें थीं। पंजाब में शिरोमणि अकाली दल और आंध्र प्रदेश में टीडीपी के साथ सत्ता साझा करते हुए भाजपा के पास गुजरात, राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और गोवा में प्रधान मंत्री थे।

बीजेपी 2018 में पीक पर

2018 में बीजेपी अपने चरम पर पहुंच गई। तब 21 राज्यों में भाजपा या सहयोगी दलों की सरकार थी। अब सिर्फ 14 राज्य ऐसे हैं जहां बीजेपी या उसका गठबंधन सत्ता में है।

नार्थ इस्ट में बीजेपी के 3 सीएम

पूर्वोत्तर भारत (सिक्किम समेत)- नॉर्थ ईस्ट के 8 राज्यों में कुल 498 विधायक हैं। इनमें से बीजेपी के 206 विधायक हैं, यानी 41.3%। इसी तरह नॉर्थ-ईस्ट के राज्यों से कुल 25 सांसद आते हैं। इनमें बीजेपी के 15 सांसद हैं, यानी 60%। असम में हिमंत बिस्वा सरमा की अगुआई में बीजेपी की सरकार है। नगालैंड में NDPP यानी नेशनलिस्ट डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी की अगुआई में बीजेपी सत्ता में है। NDPP के ने नेफ्यू रियो सीएम हैं। मणिपुर में बीजेपी स्थानीय पार्टी NPP, NPF और KPA के साथ सत्ता में है। बीजेपी के बीरेन सिंह सीएम हैं।

नार्थ- ईस्ट में बीजेपी का उदय

मिजोरम मिजो नेशनल फ्रंट की सरकार है और ज़ोरमतांगा वहां के मुख्यमंत्री हैं। त्रिपुरा में बीजेपी सत्ता में है। यहां माणिक साहा मुख्यमंत्री हैं। अरुणाचल प्रदेश में बीजेपी सत्ता में है। यहां पेमा हांडू मुख्यमंत्री हैं। सिक्किम में सिक्किम क्रांतिकारी मोर्चा सत्ता में है। प्रेम सिंह तमांग - सी.एम. राज्य में बीजेपी का विधायक नहीं है, लेकिन एसकेएम में बीजेपी के नेतृत्व वाले एनडीए का हिस्सा है।

पश्चिम भारत(महाराष्ट्र, गुजरात, राजस्थान)- महाराष्ट्र में शिंदे की शिवसेना के साथ भाजपा की सरकार है। गुजरात में भाजपा की पूर्ण बहुमत की सरकार है और राजस्थान में कांग्रेस की सरकार है। इन तीन राज्यों के 670 विधायकों में से 331 पर बीजेपी का या 49% का कब्जा है। इसी तरह इन राज्यों के 99 सांसदों में से 73 बीजेपी के हैं यानी बीजेपी के 72% है।

पूर्वी भारत (बिहार, बंगाल, झारखंड, ओडिशा): बिहार में महागठबंधन की सरकार है, पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस की सरकार है, झारखंड में झामुमो की सरकार है और ओडिशा में बीजद की सरकार है। इसका मतलब यह हुआ कि पूर्वी भारत में कहीं भी बीजेपी की सरकार नहीं है। यहां 722 जीएनडी में से 196 बीजेपी के हैं यानी 27%। इसी तरह इन राज्यों के 117 डेप्युटी में से 54 बीजेपी के हैं यानी 46% है।

उत्तर भारत (दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, हिमाचल, यूपी, उत्तराखंड): उत्तर भारत में हरियाणा, यूपी और उत्तराखंड बीजेपी द्वारा चलाए जा रहे हैं। उत्तर भारत से कुल 818 विधायक चुने जाते हैं, जिनमें भाजपा के पास कुल 377 विधायक हैं । इसी तरह बीजेपी के 189 डेप्युटी में से 98 डेप्युटी हैं यानी 52%।

मध्य भारत (एमपी, छत्तीसगढ़): मध्य प्रदेश में भाजपा की सरकार है और छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की सरकार है। यहां कुल 420 विधायक चुने गए, जिनमें से 144 बीजेपी के थे यानी 34%। इसी तरह 40 में से 37 विधायक बीजेपी से आते हैं. घंटा। 92%

दक्षिण भारत- कर्नाटक की हार के बाद दक्षिण के 5 में से किसी भी राज्य में बीजेपी सरकार नहीं है। दक्षिण भारत के 5 राज्यों और एक केंद्रशासित प्रदेश से कुल 130 लोकसभा सांसद आते हैं। इनमें बीजेपी के केवल 29 सांसद है, यानी 22%। इनमें भी 25 सांसद कर्नाटक से और 4 तेलंगाना से हैं।

इन दक्षिण भारतीय राज्यों की विधानसभाओं में कुल 923 विधायक हैं। इनमें से कर्नाटक चुनाव से पहले बीजेपी के कुल 135 विधायक थे। कर्नाटक में बीजेपी के 40 विधायक कम होने के बाद यह संख्या भी गिरकर 95 रह गई। इसका मतलब यह हुआ कि दक्षिण भारत के कुल विधायकों में से बीजेपी के पास केवल 10% विधायक हैं।

बीजेपी का है दबदबा

इन राज्यों में गुजरात, राजस्थान, दिल्ली, उत्तराखंड, हिमाचल, त्रिपुरा और हरियाणा की सभी सीटों पर बीजेपी का कब्जा है। जबकि कर्नाटक में 28 में से 25, मध्य प्रदेश में 29 में से 28, बिहार में 40 में से 39 और महाराष्ट्र में 48 में से 41 सीटों पर जीत हासिल हुई है। बीजेपी के पास यूपी की 80 में से 64, झारखंड की 14 में से 12 और छत्तीसगढ़ की 11 में से 9 सीटें हैं। यानी इन राज्यों में पार्टी ने अपना सर्वश्रेष्ठ पक्ष दिखाया। निरंतर समग्र नुकसान के कारण, भाजपा को बंगाल, बिहार, तेलंगाना, कर्नाटक और ओडिशा में सीटों की संख्या में वृद्धि की उम्मीद थी।

कर्नाटक में लगा तगड़ा झटका

अब कर्नाटक में हार से पार्टी को तगड़ा झटका लगा है और ओडिशा में नवीन पटनायक अब तक अपराजित रहे हैं। जदयू में फूट के कारण बिहार में पुराने प्रदर्शन की पुनरावृत्ति संभव नहीं है। पिछले चुनाव में बीजेपी ने बंगाल में 18 और तेलंगाना में 4 सीटों पर जीत हासिल की थी।अगर ममता कांग्रेस में शामिल होती हैं तो वहां भी बीजेपी को दिक्कत होगी। कुल मिलाकर इन पांच राज्यों में बीजेपी के सामने बड़ी चुनौती है।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.