maharashtra-war-of-words-broke-out-between-mva-and-opposition-leaders-after-ed39s-action-against-close-relative-of-cm
maharashtra-war-of-words-broke-out-between-mva-and-opposition-leaders-after-ed39s-action-against-close-relative-of-cm

महाराष्ट्र: सीएम के करीबी रिश्तेदार के खिलाफ ईडी की कार्रवाई के बाद एमवीए और विपक्षी नेताओं की बीच छिड़ा वाकयुद्ध

मुंबई, 23 मार्च (आईएएनएस)। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की ओर से मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के साले (पत्नी का भाई) की 11 संपत्तियों को कुर्क किए जाने के बाद महाराष्ट्र में राजनीति एक बार फिर गर्मा गई है। ईडी की कार्रवाई के बाद महा विकास अघाड़ी के सहयोगी शिवसेना-राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी-कांग्रेस और विपक्षी भारतीय जनता पार्टी के बीच यहां बुधवार को एक बार फिर वाकयुद्ध छिड़ गया है। राज्य में एक राजनीतिक तूफान का संकेत देते हुए, शीर्ष भाजपा नेताओं ने चेतावनी दी है कि यह तो अभी शुरुआत है और अगले कुछ हफ्तों में और कार्रवाई होगी, जबकि एमवीए नेताओं ने भाजपा पर केंद्रीय जांच का खुले तौर पर दुरुपयोग करने का आरोप लगाया। सत्ता पक्ष के नेताओं का कहना है कि एजेंसियों का इस्तेमाल उन्हें परेशान करने और राज्य सरकार को गिराने के उद्देश्य से किया जा रहा है। केंद्रीय एमएसएमई मंत्री नारायण राणे ने चेताते हुए कहा, आगे-आगे देखो, होता है क्या। इसके अलावा उनके विधायक पुत्र नितेश राणे ने ईडी द्वारा ठाकरे के साले श्रीधर माधव पाटनकर के कथित स्वामित्व वाली एक कंपनी की संपत्तियों को कुर्क करने के बाद सीएम के इस्तीफे की मांग की है। एमवीए के आरोपों को सिरे से खारिज करते हुए, विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस ने दोहराया कि जांच एजेंसियां सभी स्तरों पर भ्रष्टाचार को उजागर करने के लिए बिना किसी हस्तक्षेप या प्रभाव के अपना काम कर रही हैं। भाजपा कार्यकर्ता और पूर्व सांसद किरीट सोमैया ने कम से कम आधा दर्जन और भ्रष्ट मंत्रियों का पर्दाफाश करने की चेतावनी दी। उन्होंने महा विकास अघाड़ी गठबंधन को एक महा वसूली अघाड़ी गठबंधन करार दिया और साथ ही अन्य महत्वपूर्ण नेताओं से जुड़े अन्य घोटाले को लेकर भी कार्रवाई करने की चेतावनी दी। एक अन्य कार्यकर्ता मोहित (कम्बोज) भारतीय ने एमवीए के बड़े लोगों और कुछ नौकरशाहों के कथित वित्तीय कदाचार और अमेरिका में संपत्तियों में निवेश को उजागर करने के लिए और अधिक तेजी से कार्रवाई करने को लेकर चेताया। एमवीए को हिला देने वाले एक बड़े घटनाक्रम में ईडी ने मंगलवार को कहा कि उसने ठाणे में पुष्पक समूह की इकाई पुष्पक बुलियन की करीब 6.45 करोड़ रुपये की अचल संपत्ति कुर्क की है। ईडी ने कहा, इनमें ठाणे में नीलांबरी परियोजना में 11 फ्लैट शामिल हैं, जो श्री साईंबाबा गृहनिर्मित प्राइवेट लिमिटेड से संबंधित हैं, जिसका स्वामित्व और नियंत्रण महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की पत्नी के भाई श्रीधर माधव पाटनकर के पास है। कार्रवाई पीएमएलए के तहत पुष्पक बुलियन और समूह की अन्य कंपनियों के खिलाफ दर्ज एक मनी-लॉन्ड्रिंग मामले से जुड़ी है और अब तक ईडी ने महेश पटेल, चंद्रकांत पटेल, उनके परिवार के सदस्यों और उनके द्वारा नियंत्रित कंपनियों के स्वामित्व वाली 21.46 करोड़ रुपये की संपत्ति को कुर्क किया है। मार्च 2017 में, जब बीजेपी-शिवसेना गठबंधन सत्ता में था, पीएमएलए के तहत पुष्पक बुलियन और समूह की अन्य कंपनियों के खिलाफ दर्ज मनी-लॉन्ड्रिंग के मामले में चौंकाने वाली कार्रवाई हुई। राकांपा अध्यक्ष शरद पवार, एमवीए के मंत्री और एकनाथ शिंदे, आदित्य ठाकरे, सांसद सुप्रिया सुले, संजय राउत, नाना पटोले और कई अन्य नेताओं ने ईडी को महाराष्ट्र और पश्चिम बंगाल जैसे विपक्षी शासित राज्यों को डराने और विधिवत चुनी हुई सरकारों को गिराने के इरादे से निशाना बनाने के लिए ईडी की आलोचना की। --आईएएनएस एकेके/एएनएम

Related Stories

No stories found.