kejriwal39s-life-is-threatened-by-khalistani-terrorists-punjab-police-writes-letter-to-delhi-police
kejriwal39s-life-is-threatened-by-khalistani-terrorists-punjab-police-writes-letter-to-delhi-police

केजरीवाल को खालिस्तानी आतंकियों से जान का खतरा, पंजाब पुलिस ने दिल्ली पुलिस को लिखा पत्र

नई दिल्ली, 16 मई (आईएएनएस)। आम आदमी पार्टी और पंजाब पुलिस ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को खालिस्तानी आतंकियों से जान का खतरा बताया है। पंजाब पुलिस ने आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल को खालिस्तानी आतंकियों से जान का खतरा जताते हुए इस आधार पर दिल्ली पुलिस को सीएम की सुरक्षा बढ़ाने के लिए एक पत्र भी लिखा है। हालांकि मामले में दिल्ली पुलिस ने पंजाब पुलिस की इस मांग को खारिज करते हुए कहा है कि केजरीवाल को पहले ही सबसे उच्च स्तर की जेड प्लस श्रेणी की सुरक्षा प्रदान की गई है। दिल्ली पुलिस ने कहा कि हमें पंजाब पुलिस की तरफ से केंद्रीय गृह मंत्रालय को रेफर करता हुआ एक पत्र प्राप्त हुआ। इस पत्र में आप के मुखिया अरविंद केजरीवाल के लिए खालिस्तानी हमले का खतरा होने के मद्देनजर अतरिक्त सुरक्षा की मांग की गई है। गृह मंत्रालय को उनकी सुरक्षा को लेकर दिल्ली पुलिस की तरफ से पहले ही पूरी जानकारी दी जा चुकी है, जिसमें गृह मंत्रालय ने यह सहमति दी है कि केजरीवाल को दिल्ली पुलिस जेड प्लस सुरक्षा देना जारी रखेगी। दिल्ली पुलिस ने आगे कहा कि अगर पंजाब पुलिस के पास खालिस्तानी हमले से संबंधित खुफिया इनपुट हैं तो वह हमसे और केंद्रीय एजेंसियों से साझा करें, ताकि इस मामले पर एक्शन लेने में मदद मिले। वहीं केंद्रीय गृह मंत्रालय ने इस संबंध में कोई औपचारिक बयान नहीं दिया है। हालांकि, दिल्ली पुलिस का कहना है कि केजरीवाल को दिल्ली पुलिस की उच्च श्रेणी की सिक्योरिटी है जिसमें उनके पास पर्याप्त जवानों का सुरक्षा घेरा है। हर वीआईपी की सुरक्षा खतरे का नियमित तौर पर आकलन चलता रहता है। अगर इस आकलन में कोई जरूरत महसूस दिखाई देगी तो उनकी सिक्योरिटी को और भी बढ़ा दिया जाएगा। इसमें एक साथ दो पीएसओ, घर में हर प्रवेश पर सुरक्षाकर्मियों की तैनाती, एक वाचर, एक स्क्रीनिंग करने वाला कर्मी व आगे-पीछे दो वाहन होते हैं। इसमें एक वाहन का इस्तेमाल पायलट के रूप में किया जाता है, जबकि दूसरे का स्कॉट के रूप में इस्तेमाल होता है। दोनो वाहनों में दिल्ली पुलिस की अमूमन जिप्सी होती हैं या फिर कभी-कभी अम्बेसडर या इनोवा वाहन भी होते हैं। --आईएएनएस पीटीके/एसकेपी

Related Stories

No stories found.