Mp Election: BJP के पास 'पांडव', कांग्रेस का कौन बनेगा 'नाथ' ?

Mp Election Date: 5 राज्यों में विधानसभा चुनाव का तिथियों ऐलान हो चुका है। मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान, तेलंगाना, मिजोरम में चुनाव होना है। हालांकि पूरे देश की नजर मध्य प्रदेश चुनाव पर टिकी है।
मध्य प्रदेश में भाजपा के ये हैं पांडव। सीएम शिवराज, गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा, केंद्रीय मंत्री एवं इंदौर 1 सीट से प्रत्याशी कैलाश विजयवर्गीय, केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया, वीडी शर्मा।
मध्य प्रदेश में भाजपा के ये हैं पांडव। सीएम शिवराज, गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा, केंद्रीय मंत्री एवं इंदौर 1 सीट से प्रत्याशी कैलाश विजयवर्गीय, केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया, वीडी शर्मा।रफ्तार।

नई दिल्ली, रफ्तार। 5 राज्यों में विधानसभा चुनाव का तिथियों ऐलान हो चुका है। मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान, तेलंगाना, मिजोरम में विधानसभा चुनाव होना है। हालांकि पूरे देश की नजर मध्य प्रदेश चुनाव पर टिकी है। इसका अंदाजा आप इस बात से लगा सकते हैं कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हर चौथे दिन मध्य प्रदेश का दौरा कर रहे हैं। भाजपा ने जन आशीर्वाद यात्रा के जरिए अपने तमाम शीर्ष नेताओं समेत 5 राज्यों के मुख्यमंत्रियों का मध्य प्रदेश में दौरा करा रहा है। यहां भाजपा साढ़े 17 साल से सत्ता में है। पार्टी इसे बरकरार रखना चाहती है।

मध्य प्रदेश में CM फेस पर लड़ाई

Mp विधानसभा चुनाव में प्रमुख राजनीतिक दलों के मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार कौन होगा? यह साफ नहीं हुआ है। भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व ने इशारा किया है कि शिवराज के फेस पर चुनाव नहीं लड़ी जाएगी। कांग्रेस के लिए पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ही मुख्यमंत्री का चेहरा रह सकते हैं। कांग्रेस ने अब तक इस पर खुलकर कुछ नहीं कहा है।

BJP के ये हैं दिग्गज नेता

मध्य प्रदेश चुनाव में भाजपा का पलड़ा भारी लग रहा है। पार्टी के पास मौजूदा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा, केंद्रीय मंत्री एवं इंदौर 1 सीट से प्रत्याशी कैलाश विजयवर्गीय, केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया, वीडी शर्मा। इन नेताओं की पकड़ केवल अपने क्षेत्र में ही नहीं, बल्कि पूरे प्रदेश में है। ऐसे में पार्टी भी इन पर पूरा विश्वास जता रही है।

कांग्रेस के पास कमलनाथ का ही सहारा!

कांग्रेस के पास पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के अलावा कोई बड़ा चेहरा नहीं है। कमलनाथ 2018 में मुख्यमंत्री की जिम्मेदारी भी संभाले थे। डेढ़ साल मुख्यमंत्री रहे और फिर ज्योतिरादित्य सिंधिया समर्थक विधायकों के भाजपा में शामिल होने से सरकार गिर गई थी। वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह हैं, लेकिन उनकी छवि पार्टी में भी बहुत अच्छी नहीं है।

किस राज्य की विधानसभा के कार्यकाल की अंतिम तिथि

230 सदस्यों की मध्य प्रदेश विधानसभा, 90 सदस्यों वाली छत्तीसगढ़, 200 सदस्यों वाली राजस्थान और 119 सदस्यों वाली तेलंगाना विधानसभा का कार्यकाल जनवरी में खत्म हो रहा है। 40 सदस्यों वाली मिजोरम विधानसभा का कार्यकाल दिसंबर में ही खत्म होगा। दो महीनों से लगातार चुनाव आयोग पांचों राज्यों का दौरा कर रहा था, ताकि तैयारियों का जायजा ले सके।

MP समेत 3 राज्यों में कांग्रेस और भाजपा में सीधी लड़ाई

मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान विधानसभा चुनाव में सीधी लड़ाई कांग्रेस और बीजेपी के बीच है। तेलंगाना में त्रिकोणीय मुकाबला होगा। बीआरएस, कांग्रेस और बीजेपी में टक्कर रहेगी। मिजोरम में कांग्रेस बनाम मिजो नेशनल फ्रंट और जोराम पीपुल्स मूवमेंट की लड़ाई है।

MP की विधानसभा सीटों का ब्योरा

सरकार: 127-भाजपा

विपक्ष: 96-कांग्रेस

बसपा: 2

सपा: 1

निर्दलीय: 4

आचार संहिता लागू कब होती है

आचार संहिता चुनाव के दौरान और चुनावी प्रक्रिया के वक्त लागू होती है। यह चुनावी प्रक्रिया के अलग-अलग चरणों में मान्यता और नियमों का पालन सुनिश्चित करने के लिए बनती है। जैसे उम्मीदवारों का रजिस्ट्रेशन, वोटिंग, काउंटिंग और रिजल्ट की घोषणा के समय। इसका उद्देश्य चुनावी प्रक्रिया को निष्पक्ष और न्यायिक बनाना रहता है। ताकि लोग मताधिकार का उपयोग करें। चुनाव निष्पक्षता और विश्वासनीयता के साथ हो। आचार संहिता को चुनावी प्रक्रिया के शुरू होने से पहले लागू किया जाता है। इसका पालन चुनावी प्रत्यायों व चुनाव प्राधिकृत अधिकारियों द्वारा चुनाव दिन तक किया जाता है।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.