according-to-the-decision-of-chintan-shivir-the-president-of-fishermen-congress-resigned
according-to-the-decision-of-chintan-shivir-the-president-of-fishermen-congress-resigned

चिंतन शिविर के फैसले के तहत मछुआरा कांग्रेस के अध्यक्ष ने दिया इस्तीफा

नई दिल्ली, 16 मई (आईएएनएस)। कांग्रेस चिंतन शिविर में पार्टी की ओर से लिए गए फैसलों पर अमल किए जाने की शुरूआत हो गई है। इसी के मद्देनजर अखिल भारतीय मछुआरा कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद से टीएन प्रतापन ने सोमवार को अपना इस्तीफा दे दिया। टीएन प्रतापन ने मछुआरा कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष का पद 2017 में संभाला था। जिसके मुताबिक वह पिछले पांच साल से इस पद पर थे। राजस्थान के उदयपुर में अयोजित नव संकल्प चिंतन शिविर में पार्टी के सभी पदों का कार्यकाल 5 वर्ष निर्धारित किया गया था। ये तय किया गया था कि कोई भी व्यक्ति पार्टी के किसी भी पद पर पांच वर्ष से अधिक समय तक नहीं रहेगा। कार्यकाल समाप्त होने के बाद पदाधिकारियों को अपने पद से इस्तीफा देना होगा। लोकसभा सांसद टी.एन. प्रतापन ने सोमवार को मछुआरा कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से अपना इस्तीफा देते हुए कहा कि उदयपुर में 13, 14 और 15 को आयोजित नव संकल्प चिंतन शिविर की उदयपुर घोषणा के अनुसार, सभी दल के कार्यकाल पद 5 वर्ष निर्धारित किए गए हैं। इसका पालन करते हुए, मैं अखिल भारतीय मछुआरों के राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद से इस्तीफा दे रहा हूं। यह उन कई सुझावों में से एक था जो मैंने नव संकल्प शिविर में प्रस्तुत किए थे और यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण और अच्छा फैसला है जो पार्टी ने लिया है। उन्होंने कहा कि मछुआरा कांग्रेस अब सभी 9 तटीय राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में सक्रिय है और अधिकांश अंर्तदेशीय राज्यों में भी इसकी अच्छी संगठनात्मक व्यवस्था है। एआईएफसी ने इन सभी राज्यों में पारंपरिक मछुआरों और मत्स्य पालन से जुड़े क्षेत्रों में काम करने वाले लोगों को राज्य और जिला स्तर पर समितियों का गठन करने में कामयाबी हासिल की। केंद्र और विभिन्न राज्य सरकारों में एनडीए सरकार की मछुआरा विरोधी नीतियों के खिलाफ कई आंदोलन, विरोध और अभियान हुए। ऐसे योग्य नेताओं को ढूंढना एक बड़ी चुनौती थी जो मछुआरों जैसे कमजोर वर्ग के बीच ईमानदारी से काम कर सकें। उन्होंने पार्टी से इस्तीफा स्वीकार करने का अनुरोध करते हुए कहा, अखिल भारतीय मछुआरा कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष के रूप में मेरा इस्तीफा स्वीकार करें। मैं विनम्रतापूर्वक स्वीकार करता हूं कि भविष्य में माननीय कांग्रेस अध्यक्ष जो भी जिम्मेदारी मुझे सौंपेंगे, उसके लिए मैं अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास करूंगा। कांग्रेस ने मुझे सब कुछ दिया है और मैं इसका भुगतान करने के लिए कड़ी मेहनत करने के लिए तैयार हूं। --आईएएनएस पीटीके/एएनएम

Related Stories

No stories found.