aapatsu-lodged-an-fir-against-chief-minister-khandu
aapatsu-lodged-an-fir-against-chief-minister-khandu

मुख्यमंत्री खांडू के विरुद्ध एएपीएटीएसयू ने दर्ज कराई प्राथमिकी

इटानगर, 24 जून (हि.स.)। अरुणाचल प्रदेश के पापुम पारे जिला किमीन को असम का हिस्सा बताने वाले मामले में राज्य के मुख्यमंत्री पेमा खांडू के भी शामिल होने का आरोप लगाते हुए अखिल अरुणाचल प्रदेश आबोतानि छात्र संघ (एएपीएटीएसयू) ने गुरुवार को राजधानी इटानगर के पुलिस थाना में एक प्राथमिकी दर्ज कराई है। छात्र संघ ने अपनी प्राथमिकी में अरोप लगाया है कि गत 14 जून को मुख्यमंत्री खांडू ने किमीन स्थित सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) के अरुणाक परियोजना के मुख्य अभियंता ब्रिगेडियर एएस चोनकार के साथ बैठक की थी। बैठक में बीआरओ ने सड़क उद्घाटन कार्यक्रम के बारे में मुख्यमंत्री को पूरी जानकारी देते हुए उन्हें कार्यक्रम में आमंत्रित भी किया था। मुख्यमंत्री खांडू को इस मामले की पूरी जानकारी थी, लेकिन उन्होंने राज्य के लोगों से पूरी बात को छिपाया है। इस मामले में गुरुवार को छात्र संघ ने मुख्यमंत्री खांडू के विरुद्ध थाने में प्राथमिकी दर्ज कराते हुए इस मामले की शीघ्र जांच करने का अनुरोध किया है। इससे पहले गत 21 जून को राज्य में मुख्यमंत्री खांडू ने मीडिया में बयान देते हुए इस मामले अपने आपको अनजान बताते हुए बीआरओ को दोषी ठहराया था। ज्ञात हो कि गत 17 जून को देश के रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने अरुणाचल प्रदेश के पापुम पारे जिला स्थित किमीन का दौरा करते हुए किमीन से पॉटिन को जोड़ने वाली सड़क के साथ-साथ अन्य 11 सड़क परियोजना का उद्घाटन किया किया था। उद्घाटन कार्यक्रम के दौरान बीआरओ ने किमीन को असम के बिलघर का हिस्सा बताया था। साथ ही किमीन के सेना कैंप के सभी साइन बोर्ड, नींव के पत्थरों पर अरुणाचल प्रदेश के नाम को सफेद कागज से ढंक दिया गया था। बीआरओ के इस कदम को लेकर स्थानीय लोगों में काफी नाराजगी जतायी और अखिल किमीन युवा कल्याण संघ और राज्य के कई संगठनों ने बीआरओ को एक महीने के अंदर किमीन से निकाल जाने का अल्टीमेटम दिया था। हिन्दुस्थान समाचार/तागू/अरविंद

Related Stories

No stories found.