Lok Sabha Election: ममता बनर्जी ने भाई से तोड़ा रिश्ता, कहा- मुझे लालची लोग पसंद नहीं; हावड़ा सीट का है मामला

Kolkata News: मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अपने छोटे भाई बाबुन बनर्जी से सारे रिश्ते तोड़ लिए हैं। हावड़ा लोकसभा सीट को लेकर दोनों भाई-बहनों में गर्मागर्मी चल रही है।
Mamta Banerjee 
Babun Banerjee
Mamta Banerjee Babun Banerjee Raftaar.in

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क। ममता बनर्जी और उनके परिवार ने अपने भाई बाबुन बनर्जी के साथ सभी रिश्ते खत्म कर लिए हैं। ममता दीदी ने ये फैसला आज लिया है। ममता बनर्जी और उनके भाई बाबुन बनर्जी के बीच हावड़ा लोकसभा सीट पर नाराजगी चल रही है। इसलिए ममता बनर्जी ने अपने भाई के खिलाफ ऐक्शन लिया।

क्या है पूरा मामला?

बाबुन बनर्जी ने हावड़ा लोकसभा सीट से पार्टी के उम्मीदवार प्रसून बनर्जी के खिलाफ बगावत की थी और कहा था कि अगर जरूरत पड़ी तो वह इस सीट से निर्दलीय चुनाव लड़ेंगे। बाबुन बनर्जी ममता बनर्जी के छोटे भाई हैं। इन्होंने आज पार्टी द्वारा हावड़ा से प्रसून बनर्जी को फिर से टिकट दिए जाने पर नाराजगी जताई है। प्रसून बनर्जी द्वारा अपने ऊपर किए गए अपमान की ओर इशारा करते हुए उन्होंने नई दिल्ली में कहा- "हावड़ा लोकसभा सीट से उम्मीदवार के चयन से मैं खुश नहीं हूं। प्रसून बनर्जी सही विकल्प नहीं हैं। ऐसे कई सक्षम उम्मीदवार थे जिन्हें नजरअंदाज कर दिया गया है।"

निर्दलीय चुनाव लड़ेंगे बाबुन बनर्जी?

उन्होंने आगे कहा कि "मैं जानता हूं कि दीदी (ममता बनर्जी) मुझसे सहमत नहीं होंगी। लेकिन अगर जरूरत पड़ी तो मैं हावड़ा लोकसभा सीट से निर्दलीय चुनाव लड़ूंगा।" ममता के भाई ने कहा- "जब तक ममता दी हैं, मैं कभी पार्टी नहीं छोड़ूंगा और न ही किसी अन्य राजनीतिक दल में शामिल होऊंगा। हां, चूंकि मैं खेल से जुड़ा हूं। मैं कई BJP नेताओं को जानता हूं, जो खेल से भी जुड़े हुए हैं।"

भाई-भतीजावाद का किया उल्लेख

ममता बनर्जी ने अपने भाई के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि "वह किसी भी भाई-भतीजावाद में शामिल नहीं होंगी।" ममता बनर्जी ने कहा- "कुछ लोग लालची हो जाते हैं। मैं उन्हें परिवार का सदस्य नहीं मानती। हम उनके साथ सभी रिश्ते तोड़ते हैं। कृपया उनके साथ मेरा नाम इस्तेमाल न करें। उन्हें मेरे भाई के रूप में न पहचानें। हम उम्मीदवार के साथ रहेंगे।"

मुझे लालची लोग पसंद नहीं- ममता बनर्जी

"अगर मेरे परिवार से हर कोई लोकसभा टिकट की मांग करने लगे, तो मैं भी एक वंशवादी राजनेता बन जाऊंगी। यह पहली बार नहीं है बल्कि बाबुन हर चुनाव से पहले समस्याएं पैदा करता है।" ममता ने कहा वह जहां चाहे वहां जा सकता है। मुझे लालची लोग पसंद नहीं हैं।'' ममता ने कहा कि उनके परिवार में 32 लोग हैं और वह सभी को टिकट नहीं दे सकतीं। उन्होंने कहा कि बाबुन बनर्जी से हर कोई परेशान है।

कौन हैं बाबुन बनर्जी?

ममता बनर्जी के छोटे भाई बबुन उर्फ ​​स्वपन बनर्जी खेल जगत में जाना पहचाना नाम हैं। 2016 में वह बंगाल ओलंपिक एसोसिएशन के सचिव बने। उन्होंने आज कहा कि उन्हें 2019, 2021 विधानसभा का टिकट देने का वादा किया गया था। बाबुन मोहन बागान एथलेटिक क्लब के फुटबॉल सचिव भी हैं।

कौन हैं प्रसून बनर्जी?

प्रसून बनर्जी एक पूर्व फुटबॉलर और 2014 से हावड़ा सीट से दो बार लोकसभा सांसद हैं। वह अर्जुन पुरस्कार विजेता भी हैं और उन्होंने भारतीय राष्ट्रीय फुटबॉल टीम की कप्तानी भी की है।

खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.