Electoral Bond: कांग्रेस को पीछे पछाड़कर, TMC ने भी खूब भरा झोली में चंदा; जानें कितनी खाई मलाई

West Bengal News: चुनावी चंदा सबसे अधिक BJP को मिला है। दूसरे नम्बर पर कांग्रेस के होने की उम्मीद थी। लेकिन TMC ने ये बाजी मार ली।
Mamta Banerjee
Electoral Bond
Mamta Banerjee Electoral Bond Raftaar.in

कोलकाता, हि.स.। चुनावी चंदे (इलेक्टोरल बॉन्ड) को लेकर सुप्रीम कोर्ट की सख्ती के बाद इसे लेकर नित नए तथ्य सामने आ रहे हैं। इसी क्रम में पश्चिम बंगाल की सत्तारूढ़ पार्टी तृणमूल कांग्रेस को राज्य में सबसे अधिक चुनावी चंदा मिलने की जानकारी सामने आ रही है। इलेक्शन बॉन्ड की जानकारी से पता चलता है कि अप्रैल 2019 से जनवरी 2024 तक चुनावी बॉन्ड से पैसा पाने की सूची में तृणमूल कांग्रेस दूसरे स्थान पर रही है।

TMC को मिला इतना चंदा

आंकड़े बताते हैं कि 2021 के विधानसभा चुनाव में जीत के बाद तृणमूल के फंड में चुनावी बॉन्ड से मिलने वाली रकम में भारी बढ़ोतरी हुई है। चुनाव आयोग द्वारा दी गई गणना के मुताबिक, इस बॉन्ड से बीजेपी के बाद तृणमूल की आय 1609 करोड़ 53 लाख रुपये है। केंद्र में सबसे लंबे समय तक शासन करने वाली कांग्रेस भी तृणमूल के पीछे है। इनकी आय 1421 करोड़ 85 लाख रुपये है।

इन आंकड़ों ने ये कहा

चुनाव आयोग के आंकड़ों के मुताबिक, अक्टूबर-नवंबर 2020 से जनवरी 2021 तक चुनावी बॉन्ड से तृणमूल को 43.4 करोड़ रुपये की कमाई हुई। राज्य में मार्च 2021 के आखिरी हिस्से से विधानसभा चुनाव शुरू हो गए थे। अप्रैल में उस मतदान सत्र के दौरान ही तृणमूल ने चुनावी बॉन्ड से 55.44 करोड़ रुपये की आय अर्जित की। मई में चुनाव परिणाम घोषित होने के बाद तृणमूल राज्य में तीसरी बार सत्ता में आई और जुलाई तक यानी सत्ता में आने के महज 2 माह के भीतर चुनावी बॉन्ड से तृणमूल को 107 करोड़ 56 लाख रुपये की आय हुई।

TMC दूसरे नम्बर पर

इसमें BJP टॉप रैंक पर है। दूसरे नम्बर पर कांग्रेस के होने की उम्मीद थी। लेकिन TMC ने ये बाजी मार ली। चुनावी बॉन्ड को खरीदने में देश की बड़ी-बड़ी कंपनियों ने करोड़ों रुपये लगाए हैं। फ्यूचर गेमिंग और होटल सर्विसेज कंपनी ने सबसे अधिक 1,368 करोड़ रुपये के चुनावी बॉन्ड खरीदे हैं। इसके बाद दूसरे नम्बर पर मेघा इंजीनियरिंग इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड ने 966 करोड़ रुपये का बॉन्ड खरीदा है।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.