BJP ने संदेशखाली को लेकर ममता सरकार पर बोला हमला, कहा- TMC सरकार पारदर्शी है तो महिला सांसदों को क्यों रोक रही

Sandeshkhali Violence: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने एक बार फिर संदेशखाली मामले को लेकर ममता बनर्जी की सरकार पर हमला बोला है। कहा कि पश्चिम बंगाल में महिलाएं बिल्कुल भी सुरक्षित नहीं हैं।
Sandeshkhali Violence
Sandeshkhali ViolenceRaftaar

कोलकाता, (हि.स.)। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने एक बार फिर संदेशखाली मामले को लेकर ममता बनर्जी की सरकार पर हमला बोला है। पार्टी की वरिष्ठ नेता वानती श्रीनिवासन ने शनिवार को सवाल किया कि यदि पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस सरकार पारदर्शी है, तो महिला सांसदों को संदेशखाली में पीड़ितों से मिलने से क्यों रोका जा रहा है। महिला मोर्चा की राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीनिवासन ने उत्तर 24 परगना जिले के संदेशखाली में महिलाओं के यौन शोषण के आरोपों को लेकर राज्य सरकार की आलोचना की और आरोप लगाया कि ममता शासन के तहत महिलाएं बिल्कुल भी सुरक्षित नहीं हैं।

बंगाल में महिलाएं बिल्कुल भी सुरक्षित नहीं

उन्होंने कोलकाता में संवाददाताओं से कहा कि पश्चिम बंगाल में महिलाएं बिल्कुल भी सुरक्षित नहीं हैं। यदि तृणमूल सरकार इतनी पारदर्शी है, तो विपक्षी महिला सांसदों को संदेशखाली में पीड़ितों से मिलने से क्यों रोका जा रहा है? वे क्या छिपाने की कोशिश कर रहे हैं?

राज्य में ऐसी घटनाएं हुई हैं तो भाजपा ने कभी किसी को नहीं बचाया

भाजपा शासित राज्यों में अत्याचार के इसी तरह के आरोप लगाए जाने उनकी पार्टी द्वारा चुप्पी साध लेने के आरोप पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए श्रीनिवासन ने कहा कि भाजपा ने कभी भी ऐसे जघन्य अपराधों में शामिल किसी को नहीं बचाया है। उन्होंने दावा किया कि जब भी पार्टी शासित किसी भी राज्य में ऐसी घटनाएं हुई हैं तो भाजपा ने कभी किसी को नहीं बचाया। हमारी बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं करने की नीति है लेकिन यहां कहानी अलग है।

श्रीनिवासन में पश्चिम बंगाल पुलिस की कार्यशैली पर सवाल खड़ा किया

उन्होंने शेख शाहजहां के बचाव में ममता बनर्जी के बयान का जिक्र करते हुए कहा कि यहां अपराधियों के साथ खुद सीएम खड़ी हो रही हैं। वह भी तब जब महिलाएं पीड़ित हैं। यह चिंताजनक बात है। श्रीनिवासन में पश्चिम बंगाल पुलिस की कार्यशैली पर भी सवाल खड़ा किया और कहा कि जिस पुलिस को महिलाओं की रक्षा करनी चाहिए वह अपराधियों के साथ समझौता करने का सलाह देती है। आखिर इससे दुर्भाग्यपूर्ण और क्या होगा? 

खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.