survey-for-joshimath-malari-road
survey-for-joshimath-malari-road

जोशीमठ-मलारी सड़क के लिए सर्वेक्षण

गोपेश्वर, 02 फरवरी (हि.स.)। भारत-तिब्बत सीमा क्षेत्र में बेहतर सड़क सुविधा के लिए जोशीमठ-मलारी सड़क चौड़ीकरण ओर सुधारीकरण के लिए केंद्र की ओर से सामाजिक समाघात निर्धारण सर्वेक्षण शुरू हो गया।सर्वेक्षण के तहत गढ़वाल विश्वविद्यालय के समाजशस्त्र एवं समाजकार्य विभाग ने ग्रामीणों से बातचीत की। केंद्र ने भारत-तिब्बत सीमा क्षेत्र को यातायात से जोड़ने वाली जोशीमठ-मलारी सड़क को 31 किलोमीटर तक चौड़ीकरण और विस्तारीकरण की योजना तैयार की है। योजना निर्माण से पूर्व सड़क निर्माण की जद में आने वाले क्षेत्र के 14 गांवों से बातचीत की जा रही है। मंगलवार को नौ सदस्यी टीम ने रविग्राम में ग्रामीणों से बातचीत की। इस दौरान नापभूमि, भवनों के अधिग्रहण के साथ ही सड़क निर्माण से होने वाली दिक्कतों और उनके समाधान को लेकर चर्चा की गई। इस मौके पर मुख्य अन्वेषकडॉ. जेपी भट्ट, डॉ. नरेश मिश्रा, डॉ. दिनेश कुमार, डॉ. राजीव नागर, डॉ. राजेंद्र सिंह, सतीश गुसांई, अजंली, कृतिका, आरती, आरके मीना और संजीत सहित राजस्व, तहसील और बीआरओ के अधिकारी मौजूद रहे। हिन्दुस्थान समाचार/जगदीश/मुकुंद-hindusthansamachar.in

Related Stories

No stories found.