seeing-increasing-period-of-detention-in-the-corona-period-traders-are-in-a-tizzy-demand-to-open-shops-in-two-shifts
seeing-increasing-period-of-detention-in-the-corona-period-traders-are-in-a-tizzy-demand-to-open-shops-in-two-shifts

कोरोना काल में बंदी की अवधि बढ़ती देख व्यापारी बेहाल, दो पालियों में दुकानें खोलने की मांग

वाराणसी,21 मई (हि.स.)। कोरोना संकट काल में दुकानों के बंदी की बढ़ती अवधि से व्यापारियों के सामने आर्थिक संकट खड़ा होने लगा है। शुक्रवार को महानगर उद्योग व्यापार समिति की वर्चुअल बैठक में व्यापारियों ने अपनी पीड़ा व्यापारी नेताओं के सामने रखी। व्यापारियों ने दुकानों को दो पालियों में प्रातः 6 से पूर्वांह 11 बजे तक पहली पाली और दूसरी पाली की दुकानें दोपहर 12 से शाम 06 बजे तक खोलने की मांग की। बैठक में समिति के अध्यक्ष प्रेम मिश्रा ने बताया कि प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के ट्वीटर पर दुकानों को खोलने की अनुमति मांगी गई है। संकट के दौर में जीवन चलाने के लिए जीविका भी जरूरी है । जीवन के लिए व्यापार समिति ने पहले बंदी की पहल की थी। लेकिन अब कोरोना संक्रमण में गिरावट देखने को आ रही है। इसलिए अब जीविका भी जरूरी है। व्यापारी नेता श्रीनारायण खेमका ने बताया कि विगत 25 दिनों की पूर्ण आर्थिक बंदी से व्यापारियों के समक्ष रोजी रोटी का संकट खड़ा हो गया है। एक ओर वो अपने परिवार के पालन के लिये परेशान है। तो दूसरी ओर वह दुकानों में काम करने वाले कर्मचारीगण को वेतन, दुकान किराये, बैंक ब्याज, अलग-अलग टैक्स, बिजली बिल, व्यापारियों की उधारी कैसे चुकायेगा। इस वर्ग को तो सरकार से भी किसी राहत की उम्मीद नहीं है। व्यापारी नेताओं ने कहा कि कोरोना के चरम काल में स्वयं आगे बढकर व्यापार संगठन ने प्रशासन को अतुलनीय सहयोग देकर स्वेच्छा से पूरे शहर के प्रतिष्ठानों को उस समय बंद करवा दिया था। जब प्रदेश में कहीं लाकडाउन की घोषणा नहीं की गई थी और उसके बाद भी अभी तक व्यापारी हर तरह से शासन प्रशासन को सहयोग और मदद करने में हमेशा तैयार है। अब जब शहर की परिस्थितियां काफी सुधर गई हैं। शानदार प्रशासनिक प्रबंधन से महामारी पर लगभग पूरी तरह नियंत्रण पा लिया गया है। तो अब व्यापारियों और उन पर आश्रित कर्मचारियों की जीविका पर से प्रशासन को प्रतिबंध हटा लेना चाहिये। बैठक में अशोक जायसवाल, अनुज डीडवानिया, सोमनाथ विश्वकर्मा, गोकुल शर्मा, राजेश भाटिया, नीरज पारीख, राहुल मेहता, कोषाध्यक्ष मनीष गुप्ता, विनय गुप्ता, यू.आर. सिंह, प्रदीप चौबे, कौशल तिवारी, मीडिया प्रभारी सुरेश तुलस्यान आदि शामिल रहे। हिन्दुस्थान समाचार/श्रीधर

Related Stories

No stories found.