राज्यसभा चुनाव के बीच SP मुखिया अखिलेश का बड़ा बयान, कहा- तीसरा प्रत्याशी सच्चे साथियों की पहचान के लिए उतारा

Uttar Pradesh News: उत्तर प्रदेश राज्यसभा चुनाव में आज सियासी घमासान जारी रहा। इस दौरान समाजवादी पार्टी के कई नेताओं पर क्रॉस वोटिंग की चर्चा सामने आई।
Rajya Sabha Election
Rajya Sabha ElectionRaftaar

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क। राज्यसभा चुनाव को लेकर उत्तर प्रदेश में 10 सीटों पर आज मतदान हुआ। समाजवादी पार्टी के नेताओं ने आज BJP के पक्ष में क्रॉस वोटिंग की। सबसे पहले समाजवादी पार्टी के मुख्य व्हीप ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया। इसके साथ ही सपा के 8 विधायकों ने पार्टी से अलग जाकर भाजपा के राज्यसभा प्रत्याशी के लिए मतदान किया। जिसको देखते हुए। अखिलेश यादव ने कहा कि हमारी राज्यसभा की तीसरी सीट दरअसल सच्चे साथियों की पहचान करने की परीक्षा थी।

अखिलेश यादव ने 'X' पर ट्वीट कर दी प्रतिक्रिया

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने 'X' पर ट्वीट कर कहा कि "हमारी राज्यसभा की तीसरी सीट दरअसल सच्चे साथियों की पहचान करने की परीक्षा थी और ये जानने की कि कौन-कौन दिल से PDA के साथ और कौन अंतरात्मा से पिछड़े, दलित और अल्पसंख्यकों के ख़िलाफ़ है। अब सब कुछ साफ़ है, यही तीसरी सीट की जीत है।"

सपा-भाजपा ने कैसे फंसाया पेंच?

गौरतलब है कि इस बार राज्यसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश से 10 प्रत्याशियों का चयन किया जाना था। लेकन प्रदेश में सपा ने 3 और भाजपा ने 8 प्रत्याशियों को चुनावी रण में उतार दिया। आपको बता दें कि भाजपा ने राज्यसभा चुनाव में 8 प्रत्याशी उतारे और सपा ने 3 उम्मीदवार उतारे राज्यसभा में कुल 10 सीटें हैं। राज्यसभा चुनाव में भाजपा 7 सीटों पर आसानी से जीत दर्ज कर सकती है, वहीं सपा 2 सीटों पर। सारा पेंच फंसता है 1 सीट पर दोनों दलों में से किसी एक के खाते में ही यह सीट जाएगी।

किसके पास कितने विधायक?

सपा से आलोक रंजन सपा के तीसरे प्रत्याशी हैं। वहीं, आठवें उम्मीदवार के रूप में भाजपा ने संजय सेठ को उतारा है। 11 प्रत्याशी के इस गणित को ऐसे समझिये उत्तर प्रदेश में विधानसभा की कुल 403 सीटे हैं। जिसमें से 4 सीटे खाली हैं तो बचती हैं 199 भाजपा के पास 252 विधायक हैं NDA में कुल 34 विधायक हैं। राजा भैया की पार्टी जनसत्ता दल के भी 2 विधायक NDA में शामिल हैं ऐसे में BJP के पास कुल 288 विधायकों का का समर्थन है। वहीं सपा के पास कुल 108 हैं जिसमें कांग्रेस से 2 और बसपा से 1 विधायक है। सपा के समर्थन में कुल विधायकों की संख्या मिलाकर 111 होती है।

सपा के 7 विधायको ने की क्रॉस वोटिंग

भाजपा को अपने 8 उम्मीदवारों को जिताने के लिए 296 वोटों की जरुरत है जैसा की हमने आपको बताया भाजपा के पास कुल 288 विधायक है। भाजपा को कुल 6 वोटों की जरुरत है। वहीं सपा को 3 उम्मीदवार जिताने के लिए सपा को 111 विधायकों की जरुरत है। जिसमें से 1 सपा विधायक इरफान सोलंकी जेल में हैं, वे वोट नहीं डाल सकते सपा के 7 विधायको ने क्रॉस वोटिंग कर भाजपा के पक्ष में वोट दिया। इसके साथ बीएसपी के विधायक उमाशंकर सिंह ने भी बीजेपी को वोट दिया। जिसके बाद सपा को 8 वोटों का नुकसान हुआ। राज्यसभा चुनाव जीतने के लिए हर प्रत्याशी को 37 विधायको का समर्थन की जरुरत है। इसलिए क्रॉस वोटिंग का खेल शुरु हो गया है। आज शाम 5 बजे के बाद तीनों राज्यों की वोट काउटिंग शुरु हो गई है।

समाजवादी पार्टी पर उमड़ा परेशानियों का सैलाब

समाजवादी पार्टी के नेताओं के उपर आज से खतरे की घंटी बज रही है। आज सुबह समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं संभल सांसद शफीकुर्रहमान का 94 वर्ष की उम्र में निधन हो गया। उनको अचानक स्वास्थ्य बिगड़ने पर मुरादाबाद के सिद्ध हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था, जहां अंतिम सांस ली। उसके बाद समाजवादी पार्टी के मुख्य व्हिप ने इस्तीफा दे दिया। वहीं दूसरी ओर सपा के 5 विधायकों ने सीएम योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की। इसके बाद सपा नेताओं की क्रॉस वोटिंग ने सपा की मुश्किलें बढ़ा दीं। सपा के बदायूं के विधायक ने BJP के पक्ष में क्रॉस वोटिंग की।

खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.