Creative Foundation का कार्यक्रम "नशीली दवाओं के दुरूपयोग और जागरूकता "का सफल आयोजन

कार्यक्रम के मुख्य अथिति डॉ रत्नेश कुमार ने बताया की ड्रग कैसे सामान्य लोगों की जिन्दगी में दाखिला होकर उनके मनोबल और आत्म बल को कमजोर कर रहा है।
Dr Ratnesh Kumar
Dr Ratnesh Kumarwww.raftaar.in

संतोष कुमार / 25 feb 2024 - क्रिएटिव फाउंडेशन ने आज नोएडा सेक्टर 62 के श्री अरविदों भवन में "नशीली दवाओं के दुरुपयोग और इसके बारे में जागरूकता रोकथाम और पुनर्वास" पर जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया। इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि डॉ रत्नेश कुमार थे। कार्यक्रम में डॉ कुमार ने पावार पॉइंट प्रजेटेंशन के माध्यम से वहां पर उपस्थित सभी अथितियों को ड्रग एब्यूज और रिहाइबलेशन के प्रति जागरूक किया। कार्यक्रम के मुख्य अथिति डॉ रत्नेश कुमार ने बताया की ड्रग कैसे सामान्य लोगों की जिन्दगी में दाखिला होकर उनके मनोबल और आत्म बल को कमजोर कर रहा है। इसके साथ उन्होंने ड्रग के कारण होने वाले अपराधों पर भी प्रकाश डाला।

डॉ रत्नेश कुमार ने बताया हम सभी के आम जन जीवन को ड्रग किस प्रकार से प्रभावित कर रहा है। ड्रग के कारण आज हमारे समाज में कई तरह के व्यभिचार उत्पन्न हो रहे है। इसके साथ डॉ रत्नेश कुमार ने बताया की ड्रग लेने वाले सभी मरीज कैसे ड्रग लेने की शुरुआत छोटे मोटे नशे के साथ करते है। और उसके बाद इसके जाल में फसते चले जाते है। इन शुरुआती नशो में बीड़ी, सिगरेट एवं अन्य ऐसे चीजे जो बड़ी सरलता से उपलब्ध हो जाती है शामिल होती है। सभी ड्रग लेने वाले लोग ऐसे ही छोटे मोटे नशे से आगे बढ़ कर बड़े नशे की जद में आ जाते है। इसके साथ उन ड्रग लेने वाले लोगों के अन्दर कब इसका गलत प्रभाव पड़ने लगता है यह उनको पता नहीं चल पता।

Shri Vinod Kumar Sharma
Shri Vinod Kumar Sharmawww.raftaar.in

डॉ रत्नेश कुमार ने आगे बताया की कैसे ड्रग का इस्तेमाल करने वाले लोगों में क्रिमिनल एक्टिवटी का प्रसार होने गलता है। वो अपनी ड्रग की लत को पूरा करने के लिए किसी भी गंभीर अपराध को अंजाम दें सकते है। डॉ कुमार ने कहा ऐसा नहीं है की वो किसी प्रकार के शातिर अपराधी या क्रिमिनल नेचर के लोग होते हैं। ये आम या यूं कहे साधारण से लोग होते हैं। लेकिन उनके लगातार ड्रग लेने की आदत के कारण ये पूरी तरह से उसकी गिरफ्त में आ चुके होते हैं। जिसकी वजह से इनका दिमाग किसी भी प्रकार के अच्छे और अपठित कृतियों में विभेद नहीं कर पता है। इसीलिए हम ऐसे लोगों को चिन्हित करके और उनकी काउंसलिंग करके उनको ठीक करने का प्रयास इस एनजीओ के माध्यम से कर रहे हैं।

ड्रग के इस बढ़ाते प्रभाव और इसकी गंभीरता को ध्यान में रख क्रिएटिव फाउंडेशन ने इस अवेयरनेस कार्यक्रम की शुरुआत की है। कार्यक्रम के संयोजक डॉ शर्मा ने बताया कि हम इस कार्यक्रम के माध्यम से ऐसे तमाम लोगों खासकर युवाओं को जो इस ड्रग की दुनिया में कहीं भटक गए हैं उनको सही राह पर लाना और मुख्य धारा से जोड़ने का प्रयास कर रहे हैं। यह हमारे कार्यक्रम की पहली कड़ी है। हम लगातार ऐसे अवेयरनेस के ऊपर कार्यक्रम करते रहेंगे जिससे लोगों में इस मुद्दे के प्रति जागरूकता फैल सके।कार्यक्रम में श्री राजेश कुमार , श्री विनोद कुमार तथा अन्य गण्यमान सदस्य उपस्थित रहे !

अन्य ख़बरों के लिए क्लिक करें - www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.