UP News: देश की पहली महिला जासूस नीरा आर्य का स्मारक बनकर तैयार, उद्घाटन 26 को

India's first female detective: आजाद हिन्द फौज में रानी झांसी रेजिमेंट की सिपाही एवं देश की पहली महिला जासूस नीरा आर्य की याद में उनके जन्म स्थान पर स्मारक एवं पुस्तकालय बनाया गया है।
Neera Arya
Neera Aryaraftaar.in

नई दिल्ली, (हि.स.)। आजाद हिन्द फौज में रानी झांसी रेजिमेंट की सिपाही एवं देश की पहली महिला जासूस नीरा आर्य की याद में उनके जन्म स्थान पर स्मारक एवं पुस्तकालय बनाया गया है, जिसका लोकार्पण 26 जनवरी को होगा। नीरा आर्य स्मारक एवं पुस्तकालय की स्थापना खेकड़ा की पट्टी गिरधरपुर में साहित्यकार तेजपाल सिंह धामा एवं मधु धामा ने की है। इसका लोकार्पण चाणक्य फेम प्रख्यात फिल्म निर्देशक चंद्रप्रकाश द्विवेदी, फिल्म निर्माता विशाल त्यागी एवं विधायक योगेश धामा करेंगे।

इसका लोकार्पण चाणक्य फेम प्रख्यात फिल्म निर्देशक चंद्रप्रकाश समेत अन्य करेंगे

साहित्यकार तेजपाल सिंह धामा ने बताया कि आजाद हिन्द फौज की अमर सेनानी वीरांगना नीरा आर्य की स्मृति में निर्मित स्मारक एवं पुस्तकालय का लोकार्पण 26 जनवरी को दोपहर बारह बजे किया जाएगा। इसका लोकार्पण चाणक्य फेम प्रख्यात फिल्म निर्देशक चंद्रप्रकाश द्विवेदी, फिल्म निर्माता विशाल त्यागी एवं विधायक योगेश धामा करेंगे। नीरा आर्य स्मारक एवं पुस्तकालय की स्थापना खेकड़ा की पट्टी गिरधरपुर में की गई है। भूमि की कीमत समेत इसके निर्माण में करीब 70 लाख रुपये खर्च हुए हैं। यहां नीरा आर्य की प्रतिमा के साथ-साथ सीताकौर देवी की प्रतिमा भी स्थापित की गई है। दो मंजिला इस स्मारक में नीचे प्रतिमा एवं पुस्तकालय बनाया गया है और ऊपरी मंजिल पर गरीब लड़कियों को निशुल्क सिलाई सिखाने की व्यवस्था की गई है।

इसमें हर प्रकार की पुस्तकें संग्रहित की गई हैं

साहित्यकार मधु धामा ने बताया कि पुस्तकालय में सामाजिक, धार्मिक, ऐतिहासिक पुस्तकों के साथ-साथ साहित्य से संबंधित पुस्तकें एवं दर्जनों ऐतिहासिक महत्व की पत्रिकाओं के दुर्लभ अंक भी संग्रहित किए गए हैं। ऐसी 16 पुस्तकें भी पुस्तकालय में हैं, जिनमें नीरा आर्य के जीवन के अनेक प्रसंग दिए गए हैं। इस पुस्तकालय में बागपत जिले के सभी 300 से अधिक स्वतंत्रता सेनानियों के चित्र एवं आजादी की जंग में उनके योगदान को दर्शाने वाले फोटो फ्रेम में लगाए गए हैं। इसी के साथ गोबिंद बल्लभ पंत, मैथिलीशरण गुप्त, हरिवंश राय बच्चन, पंडित नेहरू एवं नेताजी सुभाष के हाथ के लिखे हुए कई मूल पत्र भी इस पुस्तकालय में रखे गए हैं। पुस्तकालय को प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए तैयारी करने वाले छात्रों के साथ-साथ आम पाठकों और शोधार्थियों के लिए भी उपयोगी बनाया गया है, क्योंकि इसमें हर प्रकार की पुस्तकें संग्रहित की गई हैं।

नीरा आर्य के जीवन पर बॉलीवुड में एक फिल्म का निर्माण भी किया जा रहा है

उन्होंने बताया कि नीरा आर्य के जीवन पर बॉलीवुड में एक फिल्म का निर्माण भी किया जा रहा है। इस फिल्म के निर्देशक चंद्रप्रकाश द्विवेदी को चाणक्य टेलीविज़न धारावाहिक के निर्देशक एवं अभिनेता के रूप में सर्वाधिक जाना जाता है। उपनिषद गंगा भी इनका लोकप्रिय धारावाहिक रहा। इसके अलावा पिंजर, जेड प्लस, मोहल्ला अस्सी, सम्राट पृथ्वीराज जैसी फिल्मों का इन्होंने कुशल निर्देशन किया। रामसेतु और ओएमजी-2 में ये क्रिएटिव प्रोड्यूसर थे। नीरा आर्य फिल्म के निर्माता विशाल त्यागी बॉलीवुड में किसी परिचय के मोहताज नहीं है।

नीरा आर्य को काला पानी की सजा हुई, जहां इन्हें घोर यातनाएं दी गईं

नीरा आर्य का जन्म 5 मार्च, 1902 को तत्कालीन संयुक्त प्रांत के खेकड़ा नगर में हुआ था। वर्तमान में खेकड़ा भारत के उत्तर प्रदेश राज्य में बागपत जिले का एक शहर हैं। इनकी शादी ब्रिटिश भारत में सीआईडी इंस्पेक्टर श्रीकांत जयरंजन दास के संग हुई थी। श्रीकांत जयरंजन दास अंग्रेज भक्त अधिकारी था। इन्होंने नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जान बचाने के लिए अंग्रेजी सेना में अफसर अपने पति श्रीकांत जयरंजन दास की हत्या कर दी थी। पति को मारने के कारण ही नेताजी ने उन्हें 'नागिनी' कहा था। आजाद हिन्द फौज के समर्पण के बाद जब दिल्ली के लाल किले में मुकदमा चला तो सभी बंदी सैनिकों को छोड़ दिया गया लेकिन पति की हत्या के आरोप में नीरा आर्य को काला पानी की सजा हुई, जहां इन्हें घोर यातनाएं दी गईं।

खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.