investigation-should-be-done-under-the-supervision-of-the-high-court-by-registering-an-fir-in-the-tool-kit-pramod-tiwari
investigation-should-be-done-under-the-supervision-of-the-high-court-by-registering-an-fir-in-the-tool-kit-pramod-tiwari

टूल किट में एफआईआर दर्ज कर हाईकोर्ट की निगरानी में हो जांच : प्रमोद तिवारी

प्रतापगढ़, 19 मई (हि.स.)। केन्द्रीय कांग्रेस वर्किंग कमेटी के सदस्य प्रमोद तिवारी ने बुधवार को टूल किट मामले में केंद्र की मोदी सरकार पर घबराहट में होने की बात कही है। दिल्ली में भाजपा के सत्तारूढ़ होने के बावजूद कांग्रेस की ओर से टूल किट की एफआईआर सच्चाई को दबाने के लिए जानबूझकर दर्ज नहीं की जा रही है। कांग्रेस नेता ने आरोप लगाया कि पूरे मामले के उजागर होने के बाद भाजपा को भय है कि उसके राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं एक मंत्री और कुछ बड़बोले नेता कानून की जद में आ जायेंगे। केंद्र सरकार से कहा है कि वह कांग्रेस की तरफ से टूल किट की एफआईआर दर्ज कराकर इसकी हाईकोर्ट की निगरानी में निष्पक्ष जांच कराये। टूल किट को लेकर भाजपा इसलिए सच सामने नहीं उजागर होने देना चाहती कि आपदा काल में भी उसे प्रधानमंत्री मोदी की छवि की चिंता है न कि कोरोना से जूझ रहे हिन्दुस्तानियों की जान बचाने की चिंता है। यह देश की एक सौ 30 करोड़ जनता के हित से जुड़ मुददा है। जिसे नजरअंदाज कर भाजपा सरकार मानवता को धोखा देने के अपराध बोध से ग्रसित है। कोरोना काल में सरकार के द्वारा पार्थिव शरीरों के अंतिम संस्कार में प्रशासनिक तंत्र द्वारा अमानवीय रवैये की आलोचना करते हुए कहा कि एक तरफ सरकार दावा कर रही है कि वह पैसों को अवमुक्त कर शवों का उससे जुड़े धर्म, मजहब के आधार पर अंतिम संस्कार करायेगी। बलिया में एक हिन्दू के शव को पुलिस व प्रशासन द्वारा अमानवीय ढंग से टायर, पेट्रोल छिड़ककर जलाए जाने की घटना को भाजपा के हिन्दुत्व के नाम पर वोट बटोरने के भी फरेब का खुलासा करार दिया है। देश की आबादी 80 प्रतिशत ग्रामीण होने के कारण लगभग हर परिवार या उसका परिचित कोरोना से पीड़ित हो उठा है। गांव के अस्पतालों में न कहीं ऑक्सीजन है और न ही कहीं दवाओं का रंच मात्र का प्रबन्ध। देश के लोग कोरोना महामारी से बिलख रहे है, इसके बावजूद मोदी सरकार सेंट्रन विस्टा रेडवेलपमेंट प्रोजेक्ट पर 20 हजार करोड़ का खर्च नहीं रोक रही है। जबकि निजी क्षेत्र में वैक्सीन के लिए 955 रुपये की खुली वसूली भी जारी है। हिन्दुस्थान समाचार/दीपेन्द्र

Related Stories

No stories found.