Rapid Train: नमो भारत रेपिडएक्स ट्रेन का दूसरा पड़ाव, दुहाई से मेरठ दक्षिण के बीच ट्रायल रन शुरू

Namo Bharat: एनसीआरटीसी ने 25 किमी लंबे अतिरिक्त खंड, दुहाई से मेरठ दक्षिण के बीच नमो भारत ट्रेनों का ट्रायल शुरू कर दिया है। आरआरटीएस कॉरिडोर के पूरे 42 किमी के संचालन की दिशा में एक बड़ा कदम है।
Rapid Train
Rapid TrainRaftaar

गाजियाबाद, (हि.स.)। एनसीआरटीसी ने 25 किमी लंबे अतिरिक्त खंड, दुहाई से मेरठ दक्षिण के बीच नमो भारत ट्रेनों का ट्रायल शुरू कर दिया है। यह एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर है क्योंकि यह निकट भविष्य में लक्ष्य से पहले दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ आरआरटीएस कॉरिडोर के पूरे 42 किमी के संचालन की दिशा में एक बड़ा कदम है।

मोदीनगर साउथ स्टेशन तक ट्रायल पहले से ही चल रहा था

एनसीआरटीसी के प्रवक्ता पुनीत वत्स ने बताया कि ट्रायल रन शुरू करने के लिए, ओवरहेड उपकरण (ओएचई) को मुराद नगर रिसीविंग सब स्टेशन (आरएसएस) से चार्ज किया गया था। इलेक्ट्रिक ट्रैक्शन, जो पहले मोदीनगर साउथ स्टेशन तक चार्ज होता था, अब मेरठ साउथ स्टेशन तक बढ़ा दिया गया है। मोदीनगर साउथ स्टेशन तक ट्रायल पहले से ही चल रहा था।

ट्रेन नियंत्रण प्रबंधन प्रणाली के तहत मैन्युअल संचालन किया जाता है

उन्होंने बताया कि ट्रायल रन के दौरान, नमो भारत ट्रेनों की सभी उप प्रणालियों और उपकरणों की फिटनेस का आकलन करने के लिए परीक्षण किया जा रहा है। इस चरण में ट्रेन को धीरे-धीरे पूरी लंबाई में अलग-अलग गति से चलाया जाएगा। प्रारंभ में, ट्रेन नियंत्रण प्रबंधन प्रणाली के तहत मैन्युअल संचालन किया जाता है। जैसे-जैसे प्रक्रिया आगे बढ़ेगी, ट्रेन के एकीकृत प्रदर्शन का मूल्यांकन करने और सिग्नलिंग, प्लेटफार्म स्क्रीन दरवाजे (पीएसडी), ओवरहेड आपूर्ति प्रणाली इत्यादि जैसे विभिन्न उपप्रणालियों के साथ इसके समन्वय को सत्यापित करने के लिए ट्रायल किए जाएंगे।

इस खंड में कुल 4 स्टेशन शामिल हैं

दुहाई और मेरठ साउथ आरआरटीएस स्टेशन के बीच 25 किमी का हिस्सा आरआरटीएस कॉरिडोर का अगला खंड है जिसे प्रायोरिटी सेक्शन के बाद जनता के लिए चालू किया जाना है। इस खंड में कुल 4 स्टेशन शामिल हैं- मुराद नगर, मोदी नगर साउथ, मोदी नगर नॉर्थ और मेरठ साउथ। जून में अंतिम स्पैन की स्थापना के साथ मेरठ साउथ तक वायाडक्ट का निर्माण पूरा हो गया था। इसके बाद, इस खंड में ट्रैक बिछाने, ओएचई स्थापना, सिग्नलिंग और टेलीकॉम और इलेक्ट्रिकल सहित विभिन्न निर्माण कार्य तेजी से आगे बढ़ रहे हैं।

खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.