establishment-of-free-wood-bank-at-all-nine-cremation-ghats-in-ghazipur
establishment-of-free-wood-bank-at-all-nine-cremation-ghats-in-ghazipur

गाजीपुर के सभी नौ श्मशान घाटों पर निशुल्क लकड़ी बैंक की स्थापना

-जनपद के सभी श्मशान घाटों पर अंत्येष्टि के लिए लकड़ी उपलब्ध करा रही युवाओं की टीम -गंगा किनारे प्रमुख 9 श्मशान घाटों पर युवाओं की टीम, लकड़ी बैंक के साथ ही संपर्क नंबर किए गए वायरल -सोशल मीडिया, पोस्टर बैनर के साथ समूचे जनपद में दी गई सूचना अंत्येष्टि के लिए 'लकड़ी बैंक' की स्थापना गाजीपुर, 18 मई (हि.स.)। गंगा नदी में प्रवाहित किए गए शवों के लगातार मिलने से सनसनी फैल गई है। खासकर पूर्वांचल के गाजीपुर,बलिया,बनारस,भदोही सहित बक्सर के पास गंगा नदी में मिले सैकड़ों शव से मचे कोहराम के बाद समाजसेवियों की टीम ने लकड़ी बैंक की स्थापना कर अंत्येष्टि के लिए निशुल्क लकड़ी उपलब्ध कराने की व्यवस्था कर दी। इतना ही नहीं जनपद में गंगा नदी किनारे चिन्हित नौ श्मशान घाटों पर लकड़ी बैंक की स्थापना के साथ ही घाट प्रभारियों की नियुक्ति कर उनके नाम और मोबाइल नंबर सार्वजनिक किए गए। इसके साथ ही एक टॉल फ्री नंबर जारी कर लोगों से अपील किया गया कि मृतक का शव गंगा में प्रवाहित ना कर युवाओं की टीम के माध्यम से लकड़ी प्राप्त कर शव दाह करें। गौरतलब होगी पिछले हफ्ते से लगातार गंगा नदी में सैकड़ों की संख्या में उतराए मिले शव से लोगों में हाहाकार मच गया। खासकर गंगा किनारे गांव शहर कस्बा किनारे मीडिया कर्मियों व अन्य सोशल मीडिया एक्टिविस्ट द्वारा इस खबर को दिखाने के लिए होड़ मची हुई है। लकड़ी बैंक का स्थापना में अपनी अहम भूमिका निभाने वाले संजय राय शेरपुरिया व अनुराग जायसवाल ने कहाकि तमाम लोगों द्वारा आर्थिक तंगी इत्यादि के चलते परिजनों का शव गंगा नदी में प्रवाहित किया जा रहा है। जो धार्मिक संस्कृति के खिलाफ है। इसके साथ ही इस कृत्य से मां जैसी पवित्र पावनी गंगा प्रदूषित होती नजर आती है। नदी किनारे बसे कस्बा गांव शहरों में महामारी भी फैल सकती है। इसको देखते हुए निशुल्क लकड़ी बैंक की स्थापना की गई जिससे लोग धार्मिक रीति रिवाज से अपने परिजनों का अंतिम संस्कार कर सके। इससे हमारा 'ताकि स्वच्छ रहें माँ गंगा' की अवधारणा भी फलीभूत होगी। ऐसे में जनपद के ही युवाओं की टीम द्वारा निशुल्क लकड़ी बैंक की स्थापना कर इस समस्या से निजात के लिए एक उचित समाधान उपलब्ध करा दिया गया। जनपद के चर्चित उद्यमी व समाजसेवी संजय राय शेरपुरिया व सैदपुर निवासी सामाजिक कार्यकर्ता अनुराग जायसवाल सहित दर्जन भर से अधिक युवाओं की टीम द्वारा गाजीपुर जनपद में गंगा किनारे चिन्हित 9 प्रमुख श्मशान स्थल जौहरगंज सैदपुर, धरम्मरपुर घाट जमानियां, चोचकपुर घाट, बैकुंठ धाम गाजीपुर श्मशान घाट, दैतराबाबा बरेसर, गहमर घाट, सुल्तानपुर घाट, शेरपुर घाट व वीरपुर घाट पर अंत्येष्टि के लिए निशुल्क लकड़ी बैंक की स्थापना कर प्रभारियों की नियुक्ति कर दी गई। इसके साथ ही घाट सह प्रभारियों के मोबाइल नंबर भी वायरल कर दिए गए हैं। टीम शेरपुरिया द्वारा एक टोल फ्री नंबर भी जारी कर लोगों की मदद करने के क्रम में एक मजबूत व्यवस्था कर डाली है। जो जनपद में चर्चा का विषय बना हुआ है। युवाओं की टीम द्वारा सभी श्मशान स्थलों पर पहुंचकर अंत्येष्टि सामग्री विक्रेताओं को फेस शिल्ड, मास्क इत्यादि वितरित करते हुए लगाने के लिए प्रेरित किया गया। इसके साथ ही शवदाह में लगे श्मशान कर्मचारियों को भी फेस शिल्ड इत्यादि वितरित करते हुए कोरोना कोविड प्रोटोकाल पालन करने को कहा गया। हिन्दुस्थान समाचार/श्रीराम जायसवाल

Related Stories

No stories found.