चंद पैसों और अय्याशी के चक्कर में बन गया पाकिस्तानी एजेंट, ISI की 'पूजा' ने ऐसे सतेंद्र को जाल में फंसाया

UP News: जहां हमारे सेना के जवान देश की रक्षा के लिए अपने प्राण तक न्योछावर कर देते हैं।वहीं एकाध लोग ऐसे भी देखने को मिल जातें हैं, जिनपर देश की सुरक्षा आदि से जुड़ी सेवाएं देने की जिम्मेदारी होती है।
Satendra Siwal
Satendra Siwalraftaar.in

मेरठ, रफ्तार डेस्क। उत्तर प्रदेश पुलिस की एंटी टेररिज्म स्क्वॉड यानी ATS ने मेरठ से सतेंद्र सिवाल को गिरफ्तार किया है। सतेंद्र रूस के मॉस्को स्थित भारतीय दूतावास में इंडिया बेस्ड सिक्योरिटी असिस्टेंट (IBSA) के तौर पर काम करता है। 2021 में उसकी पोस्टिंग हुई थी। उस पर पाकिस्तान के लिए जासूसी करने का आरोप है। ATS ने उसके खिलाफ IPC की धारा 121ए (देश के खिलाफ जंग) और जासूसी से जुड़े कानून के तहत केस दर्ज किया है। सूत्रों की मानें तो सतेंद्र से ATS लगातार पूछताछ कर रही है।

पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी की एजेंट पूजा के हनीट्रैप में पूरी तरह से फंस गया था

सतेंद्र के ऊपर देश की सुरक्षा से जुड़ी अहम जिम्मेदारी थी। ISI एजेंट ने फेसबुक के जरिए सतेंद्र से संपर्क किया। एजेंट ने खुद का नाम पूजा बताया और बताया था कि वो रिसर्च कर रही है। धीरे-धीरे पूजा ने सतेंद्र को अपने प्यार के जाल में फंसाया और यौन संबंधों का लालच देकर सतेंद्र से जानकारियां निकलवानी शुरू की।

सतेंद्र हनीट्रैप का शिकार हो चुका था। भेद खुलने के डर से वो पाकिस्तानी हैंडलर को भारत की गोपनीय जानकारियां देने लगा। बदले में सतेंद्र को पाकिस्तान की तरफ से पैसे मिलने लगे थे। रिपोर्ट्स के मुताबिक, सतेंद्र ने महत्वपूर्ण पदों पर बैठे अपने भारतीय सहयोगियों को भी अपने जाल में फंसाने की कोशिश की थी।

उसको ATS के headquarter लाया गया है। जहां उससे गहन पूछताछ चल रही है

भारतीय खुफिया एजेंसी को सतेंद्र की गतिविधियों में शक होने के बाद उसपर नजर रखना शुरू कर दिया था, जिसके बाद यूपी एटीएस ने इलेक्ट्रॉनिक और फिजिकल सर्विलांस के जरिये उसकी देश द्रोह की गतिविधि को जगजाहिर कर दिया और उसको मेरठ से गिरफ्तार कर लिया गया। उत्तर प्रदेश पुलिस ने आईपीसी की धारा 121ए (देश के खिलाफ जंग) और आधिकारिक गोपनीयता अधिनियम, 1923 के तहत सतेंद्र पर केस दर्ज किया है और उसको ATS के headquarter लाया गया है। जहां उससे गहन पूछताछ चल रही है।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करेंwww.raftaar.in

Related Stories

No stories found.