लोकसभा चुनाव से पहले केंद्र सरकार का बड़ा फैसला, मायावती के भतीजे आकाश आनंद को मिली Y+ सुरक्षा

Lok Sabha Election 2024: बसपा प्रमुख पूर्व मुख्यमंत्री मायावती के भतीजे आकाश आनंद को केंद्र द्वारा Y+ कैटेगरी की सुरक्षा दी गई है। जिसके बाद उत्तर प्रदेश की सियासत में बड़ा राजनीतिक भूचाल आ गया है।
Mayawati nephew Akash Anand
Mayawati nephew Akash Anand Raftaar

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क। आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर सभी राजनीतिक दल जोरों-शोरों से अपने चुनाव प्रचार में लग चुके हैं। क्षेत्रीय दलों ने भी देश के अलग-अलग हिस्सों में अपनी तैयारी कर ली है। इसी क्रम में देश के सबसे बड़े राजनीतिक सूबे उत्तार प्रदेश में भी सभी राजनीतिक पार्टियों ने चुनावी तैयारियों को अंतिम स्वरूप देने में लगें है। ऐसे में बसपा प्रमुख और उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री रहीं मायावती भी अपनी पार्टी के लिए लोकसभा चुनाव की तैयारीयां कर रही हैं। इस लोकसभा चुनाव में उनका साथ उनके उनके 28 साल के भतीजे आकाश आनंद भी दे रहें है। अब केंद्र सरकार ने आकाश को Y+ कैटेगरी की सुरक्षा दे दी है।

आकाश आनंद को मिली Y+ कैटेगरी की सुरक्षा

बसपा प्रमुख पूर्व मुख्यमंत्री मायावती के भतीजे आकाश आनंद को केंद्र द्वारा Y+ कैटेगरी की सुरक्षा देने के बाद उत्तर प्रदेश की सियासत में बड़ा राजनीतिक भूचाल आ गया है। आपको बता दें कि दिसंबर, 2023 में ही मायावती ने अपने उत्तराधिकारी के तौर पर अपने भतीजे आकाश आनंद का नाम घोषित किया था। चुनाव से पहले उनके इस निर्णय ने न सिर्फ प्रदेश की राजनीति में बल्कि देश की राजनीति में भी हलचल मचा दी थी। अब उनको गृह मंत्रालय द्वारा Y+ कैटेगरी की सुरक्षा देने के फैसले पर राजनीतिक गलियारों में इसकी विशेष चर्चा शरू हो गई है।

क्या होती है Y+ कैटेगरी की सुरक्षा?

गौरतलब है कि गृह मंत्रालय द्वारा Z+ और Y+ कैटेगरी की सुरक्षा देश के कुछ ही VIP और VVIP लोगों को दी जाती है। ये सुरक्षा उन्हीं लोगों को दी जाती है जिनकी जान को किसी तरह का खतरा होता है। ऐसे में आकाश आनंद को चुनाव से पहले Y+ कैटेगरी की सुरक्षा देने के केंद्र के फैसले को राजनीतिक लोग इसे भाजपा का चुनावी दाव बता रहें है। बता दें कि भारत में आमतौर पर पांच तरह की वीवीआईपी सुरक्षा दी जाती हैं जिसमें Z+, Z, Y+, Y और X श्रेणी की सुरक्षा शामिल है। ऐसा माना जाता है कि Z सिक्योरिटी के बाद Y+ सिक्योरिटी आती है। इस सुरक्षा घेरे में VIP की सुरक्षा के लिए 11 सुरक्षाकर्मी तैनात किए जाते हैं। इन 11 लोगों की टीम में 1 या 2 कमांडो होते हैं और 2 पीएसओ शामिल होता है। इसके अलावा सुरक्षा घेरे में कई पुलिसकर्मी भी शामिल होते हैं।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.