UP News: सुभाष चंद्र बोस आपदा प्रबंधन पुरस्कार से सम्मानित होगा यूपी का 60 पैराशूट फील्ड हॉस्पिटल

UP News: आपदा प्रबंधन में उत्कृष्ट कार्य के लिए वर्ष 2024 की संस्थागत श्रेणी के लिए 60 पैराशूट फील्ड हॉस्पिटल, उत्तर प्रदेश को सुभाष चंद्र बोस आपदा प्रबंधन पुरस्कार-2024 के लिए चुना गया है।
सुभाष चंद्र बोस आपदा प्रबंधन पुरस्कार-2024
सुभाष चंद्र बोस आपदा प्रबंधन पुरस्कार-2024raftaar.in

नई दिल्ली, (हि.स.)। आपदा प्रबंधन में उत्कृष्ट कार्य के लिए वर्ष 2024 की संस्थागत श्रेणी के लिए 60 पैराशूट फील्ड हॉस्पिटल, उत्तर प्रदेश को सुभाष चंद्र बोस आपदा प्रबंधन पुरस्कार-2024 के लिए चुना गया है। यह जानकारी मंगलवार को गृह मंत्रालय ने दी।

पुरस्कार की घोषणा 23 जनवरी को नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती पर की जाती है

गृह मंत्रालय के अनुसार केन्द्र सरकार ने आपदा के क्षेत्र में भारत में व्यक्तियों और संगठनों द्वारा दिए गए अमूल्य योगदान और निस्वार्थ सेवा को पहचानने और सम्मानित करने के लिए सुभाष चंद्र बोस आपदा प्रबंधन पुरस्कार के नाम से एक वार्षिक पुरस्कार स्थापित किया है। इस पुरस्कार की घोषणा हर साल 23 जनवरी को नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती पर की जाती है। संस्था के मामले में 51 लाख रुपये नकद और एक प्रमाण पत्र और व्यक्तिगत मामले में 5 लाख रुपये नकद और एक प्रमाण पत्र पुरस्कार के रूप में दिया जाता है।

60 पैराशूट फील्ड हॉस्पिटल, उत्तर प्रदेश की स्थापना 1942 में हुई थी

उल्लेखनीय है कि 60 पैराशूट फील्ड हॉस्पिटल, उत्तर प्रदेश की स्थापना 1942 में हुई थी। यह भारतीय सशस्त्र बलों का एकमात्र हवाई चिकित्सा प्रतिष्ठान है, जिसकी विभिन्न वैश्विक संकटों में अपनी असाधारण सेवा के लिए पहचान है। प्राथमिक मिशन में शांति और युद्ध दोनों के समय, राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्राकृतिक आपदाओं के दौरान मानवीय सहायता और आपदा राहत (एचएडीआर) संचालन शामिल है।

60 पैराशूट फील्ड हॉस्पिटल इन जगहो पर दे चुके हैं अपनी सेवा

इसने उत्तराखंड बाढ़ (2013), ऑपरेशन ''मैत्री'' (2015) के तहत नेपाल भूकंप और इंडोनेशियाई सुनामी के दौरान ऑपरेशन समुद्र मैत्री (2018) के अंतर्गत चिकित्सा सहायता प्रदान की थी। हाल ही में फरवरी 2023 में तुर्की और सीरिया में आए 7.8 तीव्रता के भूकंप के जवाब में, यूनिट ने तेजी से 99 सदस्यीय टीम को इकट्ठा किया और हटे प्रांत के स्कूल भवन में 30 बिस्तरों वाला अस्पताल स्थापित करने के लिए संसाधन की कमी और भाषा की बाधा को पार करते हुए तुर्की में भारत की अग्रणी स्तर -2 चिकित्सा सुविधा की स्थापना की।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.