रामलला की प्राण प्रतिष्ठा के लिए महज 84 सेकेंड का है शुभ मुहूर्त, जानिए क्यों है खास

आज अयोध्या के राम मंदिर में प्रभु रामलला की होने वाली  प्राण प्रतिष्ठा का शुभ मुहूर्त सिर्फ 84 सेकेंड का है। पूजा दोपहर 12.20 बजे से शुरू होगी। और शाम को दीपोत्सत्व होगा।
Ram mandir pran pratishtha 84 second shubh muhurat
Ram mandir pran pratishtha 84 second shubh muhurat Social media

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क। अयोध्या में होने वाले मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा को लेकर पूरे देश में उत्साह और जश्न देखा जा रहा है। देश से लेकर विदेश में बसे सनातनी रामलला की प्राण प्रतिष्ठा को लेकर राममय हो गए है। प्रतिष्ठा का अभिजीत मुहूर्त दोपहर 12 बजकर 29 मिनट 8  सेकंड से 12 बजकर 30 मिनट 32 सेकंड के बीच रखा गया है। इसी अभिजीत के 84 सेकंड में धार्मिक क्रियाएं संपन्न की जाएगी। सुबह सबसे पहले दैनिक मंडप में उन देवताओं का पूजन होगा।  जिनका आव्हान किया गया है। फिर  भगवान रामलला को जगाया जाएगा। इस दौरान विशेष मंत्रो का उच्चारण भी किया जाएगा। फिर भगवान राम को स्नान कराकर उनका विद्वत श्रृंगार किया जाएगा। आपको बता दें कि सुबह 11 से 12 के बीच चारों वेदों के मंत्र अयोध्या मंदिर परिसर में गूंजेंगे। प्राण प्रतिष्ठा पूजा में विधि के जजमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  होंगे। उनके हाथों में 84 सेकंड के लिए अभिजीत मुहूर्त की में रामलला की विग्रह की प्राण प्रतिष्ठा होगी। साथ ही  कार्यक्रम  में राष्ट्रीय स्वयंसेवक के प्रमुख मोहन भागवत राज्यपाल आनंदीबाई बेन पटेल,  मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, राम जन्मभूमि ट्रस्ट के अध्यक्ष नृत्य गोपाल दास महाराज भी शामिल रहेंगे।

क्यों खास 84 सेकेंड का शुभ मुहूर्त

रामलला की प्राप्ति स्थान में सिर्फ 84 सेकंड का मुहूर्त ही शुभ मुहूर्त और ऐतिहासिक मुहूर्त माना गया है।  यह मुहूर्त 6 प्रकार के योगों  से मुक्त होने से और भी विशिष्ट हो गया है। यह छह योग इंद्रयोग, आनंदयोग, सर्वार्थ सिद्धियोग, अमृत सिद्धियोग ,संजीवनीयोग तथा राजयोग है। यह मुहूर्त इसलिए भी खास है। क्योंकि मेष लग्न व्रश्चिकनवांश  अभिजीतक्षण, मृगशीर्ष नक्षत्र इस योग को और भी पवित्र एवं पुष्ट बना रहे हैं। इस दौरान सूर्य के मकर राशि में होने से यह मुहूर्त गुरु बृहस्पति के वचनों पौष को भी शुभ चरितार्थ कर रहे हैं।

शाम मनाई जाएगी दिवाली

दोपहर में शुभ मुहूर्त पर प्राण प्रतिष्ठा का कार्यक्रम समारोह हो संपन्न होने के बाद शाम को अयोध्या दीपों से जगमगा आएगी। यहां राम ज्योति प्रचलित कर दीपावली मनाई जाएगी। इसके साथ ही मकानों दुकानों प्रतिष्ठानों और पौराणिक स्थलों पर राम ज्योति प्रस्तुत की जाएगी। देश में सभी घरों में शाम को दीपोत्सव का पर्व मनाया जाएगा। अयोध्या सरयू नदी के तत्वों की मिट्टी से बने दीपों से रोशन होगी।  जैसे रामलला,कनक भवन ,हनुमानगढ़ी गुप्तारघाट ,सरयू घाट , लता मंगेशकर चौक समेत 100 मंदिरों प्रमुख चौराहों और सार्वजनिक स्थलों पर देव प्रज्वलित कर दिवाली मनाई जाएगी।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें- Hindi News Today: ताज़ा खबरें, Latest News in Hindi, हिन्दी समाचार, आज का राशिफल, Raftaar - रफ्तार:

Related Stories

No stories found.