Rajasthan News: अशोक गहलोत पर लगा गंभीर आरोप, सचिन पायलट की एक्टिविटी पर रखी नजर, फोन भी टैप करवाया

Rajasthan News: राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के पूर्व स्पेशल ड्यूटी ऑफीसर (OSD) लोकेश शर्मा ने उनपर 2020 में सचिन पायलट और बागी विधायकों के फोन को ट्रैक करने का आरोप लगाया।
Ashok Gehlot
Ashok GehlotRaftaar.in

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क। कांग्रेस नेता अशोक गहलोत के पूर्व स्पेशल ड्यूटी ऑफीसर (OSD) लोकेश शर्मा ने गंभीप आरोप लगाया है कि राज्य में 2020 के पार्टी संकट के दौरान पूर्व मुख्यमंत्री के कहने पर सचिन पायलट सहित पार्टी के बागी विधायकों के फोन और उनकी गतिविधियों को ट्रैक/टैपिंग किया गया था।

2020 का है मामला

द इंडियन एक्सप्रैस की रिपोर्ट के अनुसार, लोकेश शर्मा ने बताया कि "16 जुलाई, 2020 को पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत लगभग 3.30-4.00 बजे होटल फेयरमोंट (जहां राजनीतिक संकट के कारण विधायकों को अलग रखा गया था) से चले गए। उनके जाने के 1 घंटे बाद उनके PSO रामनिवास ने मुझे फोन किया और कहा कि सीएम ने मुझे बुलाया है।'' लोकेश शर्मा ने कहा, "पेन ड्राइव में 3 ऑडियो क्लिप थे, जिन्हें मैंने आप सभी के माध्यम से जनता तक पहुंचाया।" उन्होंने दावा किया कि उन्हें ऑडियो फाइलों की कंटेट के बारे में भी नहीं पता था और वह केवल सीएम के निर्देशों का पालन कर रहे थे।

ऑडियो क्लिप

उन्होंने कहा कि कोई सीधे पेन ड्राइव के माध्यम से प्रसारित नहीं कर सकता है, इसलिए मैं इसे घर ले आया और इसे लैपटॉप में ट्रांसफर कर दिया। लैपटॉप से मैंने ऑडियो क्लिप अपने फोन में ली और इसे अपने फोन के माध्यम से पत्रकारों के बीच प्रसारित किया। यह पहली बार नहीं है जब शर्मा ने गहलोत पर ये आरोप लगाए हैं। पिछले साल दिसंबर में उन्होंने कहा था कि पूर्व सीएम ने 2020 के पार्टी के विद्रोह के दौरान सचिन पायलट पर निगरानी रखी थी।

लोकेश शर्मा के खिलाफ दिल्ली में FIR दर्ज

यह खुलासा 26 अप्रैल को दूसरे चरण में राजस्थान की 13 सीटों पर होने वाले मतदान से एक दिन पहले हुए हैं। लोकेश शर्मा मार्च 2021 में दिल्ली में इन ऑडियो क्लिप के संबंध में दर्ज एक FIR में भी आरोपी थे। लोकेश शर्मा और अन्य लोगों पर साजिश रचने और गैरकानूनी तरीके से टेलीफोनिक बातचीत को रोकने का भी आरोप लगा था।

कुर्सी बचाने के लिए गहलोत ने किया ये सब

लोकेश शर्मा ने आरोप लगाया कि "पूर्व सीएम ने यह भी पूछा था कि क्या रिकॉर्डिंग साझा करने के लिए इस्तेमाल किया गया फोन नष्ट कर दिया गया था और उनसे अपना लैपटॉप देने के लिए भी कहा था। उन्होंने कहा कि हालांकि उन्होंने फोन नष्ट कर दिया, लेकिन लैपटॉप उन्होंने रख लिया। शर्मा ने कहा कि गहलोत ने अपने राजनीतिक फायदे और अपनी कुर्सी बचाने के लिए उनसे ये काम करवाया था।" कांग्रेस प्रवक्ता स्वर्णिम चतुर्वेदी ने द इंडियन एक्सप्रैस को बताया कि लोकेश शर्मा के आरोप का जवाब देते हुए कहा, 'वह पार्टी के सदस्य नहीं हैं और वह बीजेपी नेताओं के संपर्क में हैं। इसलिए वह उनके निर्देशों पर काम कर रहे हैं।''

3 ऑडियो क्लिप में किसका नाम आया सामने

2020 में कथित तौर पर केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत, संजय जैन नामक एक बिचौलिए और तत्कालीन कांग्रेस विधायक भंवरलाल शर्मा और विश्वेंद्र सिंह से जुड़े 3 ऑडियो क्लिप के लीक होने से राजस्थान में राजनीतिक संकट पैदा हो गया था। उन्हें कथित तौर पर गहलोत सरकार को गिराने की योजना बनाते हुए सुना गया था। तत्कालीन डिप्टी सीएम पायलट ने 19 कांग्रेस विधायकों के विद्रोह का नेतृत्व किया था।

खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.