Rajasthan Budget: वित्त मंत्री दीया कुमारी ने पेश किया बजट, कहा- 'विरासत में गहलोत सरकास का कर्ज मिला'

Jaipur News: आज विधानसभा सत्र के पटल पर वित्त और उपमुख्यमंत्री दीया कुमारी ने अंतरिम बजट पेश किया। वित्त मंत्री ने कहा कि पिछली सरकार की गलत नीतियों के फलस्वरूप विरासत में बड़ा कर्ज मिला है।
Rajasthan Finance Minister Diya Kumari
Rajasthan Finance Minister Diya KumariRaftaar.in

जयपुर, हि.स.। वित्त और उपमुख्यमंत्री दीया कुमारी ने घोषणा की है कि राजस्थान के 5 लाख घरों में सोलर प्लांट लगाए जाएंगे। इसके अलावा प्रदेश में सड़कों के विकास के लिए 1500 करोड़ रुपये का प्रावधान भी किया जा रहा है। हंगामे के बीच गुरुवार को प्रदेश की वित्त और उपमुख्यमंत्री दीया कुमारी विधानसभा में अंतरिम बजट पेश कर किया। उन्होंने ऐलान किया कि प्रदेश में 70 हजार पदों पर भर्तियां होगी। दीया ने बजट भाषण में गहलोत सरकार पर आरोप लगाए तो विपक्ष ने हंगामा किया। हंगामा बढ़ने लगा तो मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा को दखल देना पड़ा।

कर्ज में राजस्थान दूसरे नम्बर पर

वित्त मंत्री ने कहा कि पिछली सरकार की गलत नीतियों के फलस्वरूप विरासत में बड़ा कर्ज मिला है। कर्ज दोगुना होकर 5 लाख करोड़ से ज्यादा हो गया है। देश में पंजाब के बाद सबसे ज्यादा कर्ज हम पर है। पिछली सरकार ने 2 लाख 24 हजार करोड़ रुपए में से मात्र 93 हजार करोड़ का खर्च पूंजीगत व्यय के रूप में किया गया। यानी 60 प्रतिशत कर्ज का उपयोग गैर पूंजीगत व्यय के रूप में किया गया। उन्होंने कहा कि जयपुर मेट्रो का विस्तार किया जाएगा। नए रूट के लिए डीपीआर को मंजूरी दी गई है। वहीं जोधपुर, कोटा और जयपुर में 500 इलेक्ट्रिक बसें चलाई जाएंगी।

सत्ता और विपक्ष में मचा कोहराम

बजट भाषण के दौरान पूर्व सरकार पर आरोपों को लेकर विपक्ष हंगामा करने लगा। विपक्ष की टोकाटाकी पर नाराजगी जताते हुए वित्त मंत्री ने कहा कि मुझे बोलने तो दीजिए, आपको महिला वित्त मंत्री से दिक्क्त है क्या? विधानसभा अध्यक्ष वासुदेव देवनानी ने विपक्ष के विधायकों को चेतावनी दी। हंगामा बढ़ने पर मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा ने दखल देते हुए कहा कि महिला बजट पढ़ रही हैं, आपको प्रोत्साहित करना चाहिए। यह बजट है, यह बहस नहीं है। इस पर नेता प्रतिपक्ष टीकाराम जूली ने कहा कि हम हंगामा नहीं करेंगे यदि वित्त मंत्री राजनीतिक टिप्पणियां नहीं करते हुए अपना लिखित भाषण पढे़ं।
खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.