RJ Assembly: पेपर लीक मामलों में राजस्थान सरकार का बड़ा ऐक्शन, SIT की रिपोर्ट आने पर होगी कड़ी कार्रवाई

Jaipur: आज विधानसभा में प्रश्नकाल के दौरान पेपरलीक पर पूछे गए सवालों को कैबिनेट मंत्री गजेन्द्र सिंह ने उत्तर देते हुए कहा कि पेपरलीक मामलों पर कार्यवाई करने के लिए 1 माह पहले ही SIT का गठन किया है।
Rajasthan Paper Leak Case
Rajasthan Paper Leak Case Raftaar.in

जयपुर, हि.स.। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री गजेन्द्र सिंह ने आज विधानसभा में कहा कि पेपर लीक के दर्ज प्रकरणों में 1 माह पहले ही एसआईटी का गठन किया गया है। एसआईटी की रिपोर्ट आने पर इन प्रकरणों में आगे कार्रवाई की जाएगी। चिकित्सा मंत्री प्रश्नकाल के दौरान सदस्य द्वारा इस संबंध में पूछे गए पूरक प्रश्नों पर गृह मंत्री की ओर से जवाब दे रहे थे।

पेपरलीक के मामले का काला चिट्ठा

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने 15 दिसंबर को शपथ ली थी। इसके तुरन्त बाद ही अगले ही दिन 16 दिसंबर को एसआईटी तथा इसके बाद एंटी गैंगस्टर टास्क फोर्स का गठन किया गया। उन्होंने पेपर लीक प्रकरणों की जानकारी देते हुए बताया कि वर्ष 2021 में 5 बड़े पेपर लीक हुए, वर्ष 2022 में 10 तथा वर्ष 2023 में 5 पेपर लीक हुए। उन्होंने बताया कि नई राज्य सरकार के गठन के बाद 2 पेपर लीक हो चुके हैं और पेपरलीक का कोई मामला सामने नहीं आया है। सिंह ने कहा कि 1 जनवरी 2014 से आज तक पेपर लीक के कुल दर्ज 33 प्रकरणों में से 32 मामलों में चालान पेश हो चुका है तथा एक प्रकरण में उच्च न्यायालय से स्थगन आदेश है। इन प्रकरणों में 615 व्यक्तियों की गिरफ्तारी हो चुकी है। उन्होंने बताया कि इन प्रकरणों में 49 सरकारी कार्मिक जिनमें अधिकतर अध्यापक हैं, उनमें से 11 को सरकारी नौकरी से बर्खास्त कर दिया गया है।

स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम के गठन का आदेश सदन के पटल पर रखा

इससे पहले विधायक हनुमान बेनीवाल के मूल प्रश्न के लिखित जवाब में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि राज्य में विभिन्न परीक्षाओं में पेपर लीक से सम्बन्धित घटनाओं मे वृद्धि को देखते हुए पेपर लीक की रोकथाम एवं इसके सम्बन्ध में दर्ज मामलों में त्वरित जांच एवं दोषियों के विरूद्ध सख्त कार्यवाही किए जाने के लिए राज्य सरकार के आदेश 15 दिसंबर 2023 द्वारा एसआईटी का गठन किये जाने के निर्देश दिए थे जिसकी पालना में पुलिस महानिदेशक के आदेश 16 दिसंबर 2023 द्वारा श्री वी.के. सिंह, अतिरिक्त महानिदेशक पुलिस, तकनीकी सेवाएं (टेलिकम्यूनिकेशन एवं टेक्निकल) के नेतृत्व में स्पेशल इन्वेस्टीगेशन टीम का गठन किया गया है। उन्होंने स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम के गठन का आदेश सदन के पटल पर रखा।

2014 से अबतक इतने मामले हुए दर्ज

सिंह ने बताया कि स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम द्वारा वर्तमान में राजस्थान पुलिस कांस्टेबल भर्ती परीक्षा 2021 (अभियोग संख्या 13/22 थाना एसओजी), सीएचओ भर्ती परीक्षा 2020 (अभियोग संख्या 19/22 थाना एसओजी), वरिष्ठ अध्यापक भर्ती परीक्षा 2022 (अभियोग संख्या 227/22, थाना बेकरिया, उदयपुर), वरिष्ठ अध्यापक भर्ती परीक्षा 2022 (अभियोग संख्या 747/22, थाना सुखेर, उदयपुर) रीट भर्ती परीक्षा 2021 (अभियोग संख्या 402/21, थाना गंगापुर सिटी), कनिष्ठ अभियंता (डिग्री) भर्ती परीक्षा 2020 (अभियोग संख्या 540/20 थाना सांगानेर जयपुर पूर्व, हाई कोर्ट लिपिक भर्ती परीक्षा 2020 (अभियोग संख्या 136/22 थाना कोतवाली दौसा) की जांच की जा रही है। चिकित्सा मंत्री ने बताया कि प्रदेश में 1 जनवरी 2014 से आज तक पेपर लीक के कुल दर्ज 33 प्रकरणों में 615 व्यक्तियों की गिरफ्तारी हुई है। इनमें से 32 प्रकरणों में चालान पेश किया जा चुका है तथा एक प्रकरण में अनुसंधान जारी है। उन्होंने इसका विवरण सदन के पटल पर रखा।

खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.