everyone-is-praising-the-slogan-man-verma
everyone-is-praising-the-slogan-man-verma

स्लोगन मैन वर्मा की कर रहे हैं सभी तारीफ

झुंझुनू,18 जून(हि.स.)। शेखावाटी क्षेत्र के झुंझुनू जिले में स्वामी विवेकानंद नगरी के नाम से विख्यात खेतड़ी के अध्यापक रमाकांत वर्मा कोरोना काल में ग्राफिक्स के माध्यम से स्लोगन बना कर अपनी पहचान स्लोगन मैन के रूप में पूरे देशभर में स्थापित कर चुके हैं। लोग सुबह उठते ही रमाकांत वर्मा द्वारा बनाए गए कोरोना से जागरूक करने वाले स्लोगन को पढ़कर अपना स्टेटस सोशल मीडिया पर लगाते हैं और एक दूसरे को संक्रमण के प्रति जागरुक करते नजर आते हैं। पिछले कई महीनों से 200 से भी अधिक स्लोगन बना कर स्लोगन का दोहरा शतक लगा दिया है। कोरोना से निजात पाने का कई प्रकार से सरकारी व गैर सरकारी स्तरों पर प्रयास किए जा रहे है। ऐसे में राजकीय शिक्षक रमाकांत वर्मा ने माना कि कोविड जागरूकता को जन आंदोलन बनाना सशक्त कदम है। प्रतिदिन सूरज की पहली किरण के साथ ही जागरूकता संदेश सोशल मीडिया पर छाने लगते है। संदेश के प्रचार प्रसार में आम से खास तक विभिन्न विभागों के आला अधिकारी सभी सहयोग करते है। वर्मा ने मौलिक सृजन से डिजाइन, ग्राफिक्स, कंटेंट बनाते है। शिक्षा विभाग झुंझुनूं इनको प्रतिदिन विद्यार्थियों तक ग्रुपस के माध्यम से भेजते है। जागरूकता संदेश में महापुरुषों की वाणी, दिवस विशेष जैसे पर्यावरण दिवस, रक्तदान दिवस, साइकिल डे जैसे विषयों को भी इस प्रकार उकेरा जाता है कि न केवल संदेश आकर्षक होते है। बल्कि हृदय पर प्रभाव भी छोड़ते है। इनके संदेश प्रचलित सामान्य संदेशों से कुछ हटकर होते है। एक संदेश में बताया गया कि वैक्सीन कब, कौन, कैसे लगवाए इसमें एक ही प्लेटफार्म पर जिज्ञासा समाधान होता है। 53 वर्षीय खेतड़ी निवासी हाल जयसिंह स्कूल में कार्यरत रमाकांत वर्मा शिक्षक होने के साथ प्रखर वक्ता, एंकर, लेखक तथा इनोवेटर है। आप स्वामी विवेकानंद को अपना प्रेरणा स्त्रोत मानते है और मिशन से ही आध्यात्मिक दीक्षित भी है। आप गणित विज्ञान के शिक्षक होने के साथ अन्य विषयों में मास्टर्स है। मिशन के तत्वावधान में राजस्थान सरकार द्वारा शिक्षा विभाग के लिए चलाए गए "नागरिक जागरूकता कार्यक्रम" के पायलेट प्रोजेक्ट को सफल बनाया और प्रभावी सफलता के लिए "वैल्यू एज्यूकेशन" की योग्यता भी प्राप्त की है। कोरोना काल में रोगियों की भोजन, दवा, ऑक्सीजन व्यवस्था के लिए मिशन के साथ समन्ययक के दायित्वों के बखूभी पालन करने के साथ ही कई प्रकार के राहत कार्यों में अग्रणी रहते है। आपके कार्यों के लिए कई बार प्रशासन व शिक्षा विभाग ने भी सम्मानित किया है। हिन्दुस्थान समाचार / रमेश सर्राफ/ ईश्वर