celebrated-128th-foundation-day-of-the-ancient-temple-of-shri-ramchandraji
celebrated-128th-foundation-day-of-the-ancient-temple-of-shri-ramchandraji

प्राचीन मंदिरश्री रामचन्द्रजी का 128वां स्थापना दिवस मनाया

जयपुर,17 मई (हि.स.)। वैशाख शुक्ल पंचमी पर सोमवार को चांदपोल बाजार स्थित ठिकाना मंदिरश्री रामचन्द्रजी का 128वां स्थापना दिवस (पाटोत्सव) मनाया गया। कोरोना के चलते इस बार भी पाटोत्सव सादगी के साथ महंत परिवार की ओर से ही मनाया गया। साथ ही ठाकुर श्रीरामचन्द्रजी से कोरोना महामारी से सबकी रक्षा करने के लिए मंगल प्रार्थना की गई। महन्त राधेश्याम तिवाड़ी ने बताया कि ठाकुर श्रीरामचन्द्रजी को मंत्रोच्चारण के साथ पहले पंचामृत अभिषेक हुआ, उसके बाद दोपहर में विशेष श्रृंगार कर आरती की गई। कोरोना महामारी की वजह से मंदिर परिसर में भक्तजनों का प्रवेश निषेध रखा गया। मंदिर परिवार ने ही पूरे नेकचार के साथ उत्सव मनाया। साथ ही श्रीठाकुर श्रीरामचन्द्र से कोरोना महामारी से सबकी रक्षा की प्रार्थना की गई। महंत राधेश्याम तिवारी ने बताया वैशाख शुक्ल पंचमी पर साल 1894 में इस मंदिर में ठाकुरश्री रामचन्द्रजी महाराज की स्थापना हुई थी। जयपुर नरेश महाराजा सवाई रामसिंह की पत्नी गुलाबकवंर धिरावत ने अपने पति की स्मृति में इस मंदिर का निर्माण करवाया। मंदिर निर्माण में 18 वर्ष 9 महीने 24 दिन लगे। यह मंदिर उत्तरी भरत का सम्पूर्ण रामदरबार का प्राचीन मंदिर है। यहां पंच कटोरी सेवा पद्धति है। मंदिर में शिल्प कार्य का अनूठा नमूना है। नागफनी और सिंघमुख की छवि उकेरी गई है। भित्ती चित्रों का सुंदर कार्य है, जिनमें ठाकुरजी को जयपुर के दर्शनीय स्थानों के साथ रामचरित मानस के प्रसंगों को दिखाया गया है। जगमोहन के छत व गरदनों में श्री विष्णु जी के 24 अवतारों का चित्रण किया हुआ है। मंदिर में पांच चौक का विशाल मंदिर है। मंदिर प्रांगण में दक्षिणमुखी हनुमानजी, श्रीगुबेश्वरनाथ महादेवजी शिव पंचायत मंदिर भी है। सिंघासन, चौक चूड़ी उत्तर पद्धति में बने हुए है, ताकि मंदिर के सामने के बरामदे से भी दर्शन किया जा सके। हिन्दुस्थान समाचार/दिनेश/संदीप

Related Stories

No stories found.