छिंदवाड़ा लोकसभा सीट से विवेक बंटी साहू भाजपा के उम्मीदवार, पूर्व सीएम कमलनाथ के बेटे नकुलनाथ की बढ़ाई मुश्किलें

Loksabha Election 2024: मध्य प्रदेश की छिंदवाड़ा संसदीय सीट पर भारतीय जनता पार्टी ने विवेक बंटी साहू को प्रत्याशी बनाकर मुकाबला रोचक बना दिया है।
Vivek Bunty Sahu and Nakulnath
Vivek Bunty Sahu and Nakulnathraftaar.in

छिंदवाड़ा, (हि.स.)। मध्य प्रदेश की छिंदवाड़ा संसदीय सीट पर भारतीय जनता पार्टी ने विवेक बंटी साहू को प्रत्याशी बनाकर मुकाबला रोचक बना दिया है। कांग्रेस से सांसद नकुलनाथ इस बार फिर प्रत्याशी होंगे। राजनीतिक समीक्षकों के द्वारा किसकी जीत होगी और किसकी हार होगी इस पर मंथन होने लगा है। नकुलनाथ और कमलनाथ की विरासत बचेगी या फिर भाजपा इतिहास रचेगी इस बात पर मंत्रणा शुरू हो चुकी है।

छिंदवाड़ा लोकसभा सीट पर पहले विकास ही मुद्दा रहा है

छिंदवाड़ा लोकसभा सीट पर पहले विकास ही मुद्दा रहा है। वर्ष 2014 और 2019 के चुनाव में छिंदवाड़ा में कमलनाथ ही भारी पड़े थे।लोकसभा चुनाव में सामान्य तौर पर राष्ट्रीय मुद्दे हावी होते हैं लेकिन छिंदवाड़ा में कमलनाथ और विकास के मुद्दे पर जनता वोट करती नजर आई है।राजनीतिक जानकारों की माने तो कमलनाथ को उनके ही गढ़ में सेंध लगाने के लिए भारतीय जनता पार्टी ने विवेक बंटी साहू पर दाव लगाया है। विवेक बंटी साहू वर्ष 2019 के उपचुनाव और 2023 के विधानसभा चुनाव में कमलनाथ को कड़ी टक्कर दे चुके हैं।

भाजपा के लिए छिंदवाड़ा लोकसभा सीट जीतने का लक्ष्य चुनौती भी है

2023 के विधानसभा चुनाव में भी छिंदवाड़ा को हाई प्रोफाइल सीट माना जा रहा था। इसी तरह छिंदवाड़ा लोकसभा सीट भी प्रदेश की सबसे हाई प्रोफाइल सीट मानी जा रही है। वर्ष 2023 के विधानसभा चुनाव में मध्य प्रदेश में प्रचंड जीत पाने वाली भारतीय जनता पार्टी छिंदवाड़ा जिले में अपना खाता भी नहीं खोल पाई थी। ऐसे में भाजपा के लिए छिंदवाड़ा लोकसभा सीट जीतने का लक्ष्य चुनौती भी है।

38 हजार मतों से जीते थे नकुलनाथ

वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के प्रत्याशी रहे नकुलनाथ ने भाजपा उम्मीदवार नत्थन शाह को लगभग 38 हजार वोटो से हराया था।लोकसभा चुनाव में कांग्रेस उम्मीदवार नकुलनाथ को 5 लाख 47 हजार 305 वोट मिले, तो वहीं भाजपा के उम्मीदवार नत्थन शाह को 5 लाख 9 हजार 796 वोट मिले थे। इस अंतर को लोकसभा की दृष्टि से काफी कम अंतर माना जा रहा है।

छिंदवाड़ा में हुए 17 लोकसभा

छिंदवाड़ा में अब तक 17 लोकसभा चुनाव और एक उपचुनाव हुए हैं।जिसमें भाजपा केवल 1997 के उपचुनाव में जीती थी। तब भाजपा के दिग्गज नेता सुंदरलाल पटवा ने कमलनाथ को हराया था। इसके अलावा सारे चुनाव कांग्रेस ही जीतती आई है। 2018 के विधानसभा चुनाव में मध्य प्रदेश में कांग्रेस की जीत के बाद कमलनाथ मुख्यमंत्री बने। उन्होंने लोकसभा चुनाव में बेटे नकुलनाथ को अपनी विरासत सौपी। नकुलनाथ ने अपना पहला चुनाव वर्ष 2019 में लड़ा।

मोदी लहर का मिलेगा लाभ

छिंदवाड़ा लोकसभा सीट से भाजपा के प्रत्याशी विवेक बंटी साहू को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता और प्रदेश में भाजपा की सत्ता होने का सीधा लाभ मिलेगा। देश भर में भाजपा 400, प्रदेश में पूरी 29 सीट जीतने का दावा कर रही है जिससे विवेक बंटी साहू को बल मिला श्री साहू का जाति समर्थन पारिवारिक रिश्तेदारों का तगड़ा नेटवर्क साथी पार्टी का छिंदवाड़ा की जीत पर पूर्व फॉक्स होने मजबूत करता है।

कांग्रेस को नुकसान

देशव्यापी स्तर पर कांग्रेस की गिरती साख से छिंदवाड़ा में कांग्रेस प्रत्याशी नकुलनाथ को नुकसान होगा। पूर्व सीएम कमलनाथ की टीम के पुराने कांग्रेस के कार्यकर्ता नकुलनाथ की नई टीम के बीच समन्वय न होने के साथ ही कांग्रेस कार्यकर्ताओं का पिता कमलनाथ की तरह सीधा संवाद का अभाव भी नकुलनाथ को नुकसान पहुंचा सकता है।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.