MP: कूनो नेशनल पार्क में नामीबिया की चीता ज्वाला ने चार शावकों को दिया जन्म

Kuno National Park: मध्य प्रदेश के कूनो नेशनल पार्क में नामीबिया की चीता ज्वाला ने तीन नहीं चार शावकों को जन्म दिया है।
Bhupendra Yadav
Bhupendra Yadavraftaar.in

नई दिल्ली, (हि.स.)। मध्य प्रदेश के कूनो नेशनल पार्क में नामीबिया की चीता ज्वाला ने तीन नहीं चार शावकों को जन्म दिया है। यह जानकारी केंद्रीय पर्यावरणमंत्री भूपेंद्र यादव ने आज एक्स हैंडल पर साझा की है। कल उन्होंने कहा था कि ज्वाला ने तीन शावक जन्मे हैं।

शावक भारत में अपने घर में फलें-फूलें और समृद्ध हों

केंद्रीयमंत्री यादव ने आज एक्स हैंडल पर लिखा है, ''जैसे ही अग्रिम पंक्ति के वन्यजीव योद्धा ज्वाला के करीब पहुंचने में कामयाब रहे, उन्होंने पाया कि उसने तीन नहीं, बल्कि चार शावकों को जन्म दिया है। इससे हमारा आनंद कई गुना बढ़ गया है। सभी को बधाई। हम प्रार्थना करते हैं कि शावक भारत में अपने घर में फलें-फूलें और समृद्ध हों।''

चीता ज्वाला ने पिछले साल 27 मार्च 2023 को भी चार शावकों को जन्म दिया था

चीता ज्वाला ने पिछले साल 27 मार्च 2023 को भी चार शावकों को जन्म दिया था। दुर्भाग्यवश इनमे से 3 शावकों की मौत हो गयी थी। एक मादा शावक अब 10 माह का है और पूरी तरह से स्वस्थ है। । सरकार, जिम्मेदार अधिकारियों और कर्मचारियों की तरफ से चीतों का पूरा ध्यान रखा जा रहा है। उनके खाने पीने से लेकर हर चीज का पूरा ध्यान रखा जा रहा है। 3 जनवरी 2024 को नामीबियाई चीता आशा ने भी 3 शावकों को जन्म दिया था।

कूनो राष्ट्रीय उद्यान (कूनो नेशनल पार्क) संरक्षित क्षेत्र है

उल्लेखनीय है कि मध्य प्रदेश के कूनो नेशनल पार्क में दक्षिण अफ्रीका और नामीबिया से 20 चीते लाए गए थे, जिन्हे दो चरणों में यहां लाया गया था। इनमे से 7 चीतों की मौत हो चुकी है। अब कूनो में शावकों की संख्या 7 हो गयी है। यह नरेंद्र मोदी द्वारा शुरू करे गए चीता प्रोजेक्ट के लिए एक बड़ी उपलब्धि है। धीरे धीरे सरकार और कूनो के अधिकारी इस उपलब्धि को बढ़ाने में सफल रहेंगे। कूनो राष्ट्रीय उद्यान (कूनो नेशनल पार्क) संरक्षित क्षेत्र है। इसकी स्थापना 1981 को वन्य अभयारण्य के रूप में की गई थी। यह राज्य के श्योपुर और मुरैना जिलों पर विस्तारित है।

खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.