Jharkhand: विकसित गांव-विकसित भारत का 1 जनवरी को केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा करेंगे शुभारंभ

Ranchi News: सरायकेला-खरसावां में केंद्रीय कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय की ओर से 1 जनवरी को किसान समागम (कृषि मेला सह प्रशिक्षण कार्यक्रम) आयोजित होगा।
Arjun Munda
Arjun Munda Raftaar.in

रांची/सरायकेला, हि.स.। सरायकेला-खरसावां में केंद्रीय कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय की ओर से 1 जनवरी को किसान समागम (कृषि मेला सह प्रशिक्षण कार्यक्रम) आयोजित होगा। कार्यक्रम का थीम विकसित गांव-विकसित भारत है। यह कार्यक्रम राज्यपाल सीपी राधाकृष्णन की अध्यक्षता में होगी। कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि केंद्रीय कृषि और किसान कल्याण एवं जनजातीय कार्य मंत्री अर्जुन मुंडा उपस्थित रहेंगे। कार्यक्रम का शुभारंभ राज्यपाल और केंद्रीय मंत्री संयुक्त रूप से करेंगे।

स्टार्टअप की होगी शुरुआत

मेले में कृषि और सम्बद्ध क्षेत्रों से जुड़े सरकारी विभागों, निजी संस्थानों, स्टार्टअप आदि द्वारा 100 से अधिक स्टॉल लगाए जाएंगे, जो हजारों किसानों के साथ ही खेती-किसानी क्षेत्र से जुड़े अन्य लोगों के लिए ज्ञानवर्धक और प्रेरणादायी होंगे। भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) की संस्थाओं, राष्ट्रीय बीज निगम, बिरसा कृषि विश्वविद्यालय, इफको, राष्ट्रीय बागवानी बोर्ड, अटारी (पटना) और राज्य सरकार की विभिन्न संस्थाओं के साथ मिलकर गोंडपुर मैदान, खरसावां में यह वृहद आयोजन होगा।

कृषि विज्ञान केंद्रों की भी भागीदारी सुनिश्चित की गई

इसका उद्देश्य कृषि प्रक्रिया और उत्पादों के विभिन्न आयामों, नवीनतम कृषि-मशीनरी, कृषि-इनपुट और किसान अनुकूल प्रथाओं के अन्य पहलुओं को प्रदर्शित करना है। साथ ही मेला कृषि वैज्ञानिकों, विशेषज्ञों, विस्तारकर्मियों, नीति-निर्माताओं व कृषि अधिकारियों को अपना अनुभव किसान भाइयों-बहनों के साथ साझा करने का मंच है। मेले में झारखंड के विभिन्न जिलों में कार्यरत कृषि विज्ञान केंद्रों की भी भागीदारी सुनिश्चित की गई है।

हजारों किसान भाग लेंगे और जनप्रतिनिधि रहेंगे उपस्थित

मेले में राज्य के हजारों किसान भाग लेंगे और जनप्रतिनिधि भी उपस्थित रहेंगे। विकसित भारत को ध्यान में रखते हुए किसानों के विकास एवं उत्थान के लिए भारत सरकार के जरिये चलाई जा रही लाभकारी योजनाओं की जानकारी मेले में उपलब्ध कराने की व्यवस्था भी की गई है। मेले के दौरान किसानों को प्राकृतिक खेती, ड्रोन का कृषि में उपयोग और कृषि को उद्यम के रूप में विकसित करने सहित अन्य संबंध में जानकारी भी दी जाएगी।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.