झारखंड विधानसभा में CM चंपई सोरेन का 'शक्ति परीक्षण' आज, हेमंत सोरेन भी होंगे शामिल

Jharkhand News: चंपई सरकार का आज झारखंड विधानसभा में शक्ति परीक्षण है। चंपई की पार्टी JMM और उसके गठबंधन के करीब 40 विधायक आज हैदराबाद से झारखंड की राजधानी रांची वापस आ गए है।
champai soren
champai sorenraftaar.in

रांची, रफ्तार डेस्क। चंपई सरकार का आज झारखंड विधानसभा में शक्ति परीक्षण है। चंपई की पार्टी सत्तारूढ़ झारखंड मुक्ति मोर्चा (JMM) और उसके गठबंधन के करीब 40 विधायक आज हैदराबाद से झारखंड की राजधानी रांची वापस आ गए है, इन सबको आज चंपई सरकार के फ्लोर टेस्ट(शक्ति परिक्षण) में शामिल होकर बहुमत की प्रक्रिया को आगे बढ़ाना है। बता दें कि झारखंड में 81 सदस्यीय विधानसभा में चंपई सरकार को 41 सदस्य के बहुमत का आकड़ा पेश करना होगा। तभी वे अपनी सरकार को कायम रखने में सफल होंगे। इस शक्ति परीक्षण में शामिल होने के लिए पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को विशेष अनुमति दी गई है।

जानें झारखंड में सरकार बनाने के लिए पक्ष और विपक्ष से जुडी उठापटक

झारखंड में गठबंधन की सरकार(झारखंड मुक्ति मोर्चा, कांग्रेस और राष्ट्रीय जनता दल) को डर था कि कहीं भाजपा उनके विधायकों की खरीद परोख्त न कर ले। इसलिए उन्होंने अपने विधायकों को कांग्रेस शासित प्रदेश तेलंगाना में भेज दिया था। जहां से सारे विधायक शक्ति प्रदर्शन के लिए रांची पहुंच गए है।

विपक्ष का आरोप था की भाजपा ऑपरेशन लोटस के तहत उनके विधायकों से संपर्क साध रही है। इसलिए उन्हें अपने विधायकों को हैदराबाद भेजना पड़ा।

झारखंड विधानसभा के 81 सदस्यीय सदन में से चंपई सरकार की गठबंधन सरकार के पास 47 विधायक है, जिनमे से 43 विधायक चंपई सोरेन का समर्थन कर रहे हैं। चंपई को केवल 41 विधायकों का आकड़ा पेश करना है। आज ये देखना बहुत ही दिलचस्प रहेगा कि चंपई ये आकड़ा पेश करने में सफल हो पाएंगे।

वहीं भाजपा ये अकड़ा पेश करने से बहुत ही दूर नजर आ रही है। भाजपा के पास 25 विधायक हैं। वहीं आजसू के पास 3, राकांपा के पास 1, वामपंथी दल के पास 1 और 3 निर्दलीय विधायक है। यहां भाजपा को दूर तक कोई सरकार बनाने के संकेत नहीं है।

वहीं PMLA की अदालत ने हेमंत सोरेन को भी चंपई सरकार के शक्ति प्रदर्शन में शामिल होने की अनुमति दे दी है। ईडी ने इसके लिए काफी विरोध किया था , लेकिन कोर्ट ने उन्हें इसके लिए अपनी अनुमति दे दी।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार JMM के विधायक मिथिलेश ठाकुर ने दावा किया है कि उनकी पार्टी गठबंधन के साथ मिलाकर विश्वास मत साबित करेगी। उन्होंने तो यहां तक कह डाला कि प्रदेश में कई बीजेपी के विधायक भी गठबंधन के समर्थन में हैं।

प्रदेश की भाजपा के मुख्य सचेतक बिरंची नारायण ने तो आत्मविश्वास के साथ कह डाला की गठबंधन का विश्वास मत हारना तय है। लेकिन उन्होंने यह नहीं बताया कि उनके पास कितने विधायक हैं। वाक्य में आज का शक्ति प्रदर्शन बहुत ही जोरदार होने वाले है।

पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के पद छोड़ने के बाद की चंपई सोरेन, राजद के सत्यानंद भोक्ता और कांग्रेस के मंत्री आलमगीर आलम को झारखंड के राज्यपाल सीपी राधाकृष्णन ने पद की शपथ दिलाई थी।

खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.