Jharkhand News: हेमंत सोरेन का बड़ा बयान- झारखंड की सरकार न दिल्ली से चलेगी, न ही रांची से, गांव से चलेगी

Dhanbad: धनबाद के बलियापुर प्रखंड में आयोजित कार्यक्रम में पहुंचे CM हेमंत सोरेन ने 408.39 करोड़ रुपये से अधिक की 71 योजनाओं का उद्घाटन तथा 122 करोड़ रुपये से अधिक की 135 योजनाओं का शिलान्यास किया।
CM Hemant Soren
CM Hemant SorenRaftaar.in

धनबाद, हि.स.। आपकी योजना आपकी सरकार आपके द्वार कार्यक्रम के तहत शुक्रवार को धनबाद के बलियापुर प्रखंड में आयोजित कार्यक्रम में पहुंचे मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने 408.39 करोड़ रुपये से अधिक की 71 योजनाओं का उद्घाटन तथा 122 करोड़ रुपये से अधिक की 135 योजनाओं का शिलान्यास किया। साथ ही उन्होंने 376497 लाभुकों के बीच 418 करोड़ रुपये से अधिक की परिसंपत्तियों का वितरण भी किया।

विपक्ष पर साधा निशाना

उन्होंने मंच से लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि झारखंड की सरकार न दिल्ली से चलेगी और न ही रांची, झारखंड की सरकार गांव से चलेगी। उन्होंने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि लोगों को इस योजना का लाभ मिल रहा है या नहीं इसका आकलन करने वे हर जगह पहुंच रहे हैं। उन्होंने कहा कि आज भी राज्य के ग्रामीणों को नहीं पता कि उनके प्रखंड के बीडीओ कौन है? डीसी, एसपी की जानकारी होना तो उनके लिए दूर की बात है।

सीएम ने कहा कि पूर्ववर्ती सरकारों ने क्या किया यह देख कर चिंता होती है। यही वजह है कि इस कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है, ताकि सरकारी योजनाओं का सीधा लाभ जनता तक पहुंच सके।

डबल इंजन के किसी सरकार से कही बड़ा है कदम

उन्होंने कहा कि यदि उत्तराखंड के टनल में किसी नेता अधिकारी का बेटा फंसा होता तो हम देखते कि कैसे उचित कार्रवाई में इतनी विलंब होती। उन्होंने कहा कि अब झारखंड में कोई भी उद्योग को स्थापित होगा तो उसमें 75 फीसदी स्थानीय लोगों को लाभ मिलेगा।

साथ ही किसानों के लिए विभिन्न योजनाएं, जैसे बिरसा और पशुधन योजना, गुरु जी क्रेडिट कार्ड योजना और छात्रों के लिए 15 लाख तक का लोन प्रदान किया जा रहा है। जनवरी 2019 में 16 लाख लोगों को पेंशन मिली है और अब तक 36 लाख पेंशन दी जा चुकी है। साथ ही किसानों को 8 लाख केसीसी कार्ड भी प्रदान किए गए हैं, जो डबल इंजन के किसी सरकार से कही बड़ा कदम है।

केंद्र सरकार पर किया हमला

सोरेन ने कहा कि राज्य अलग होने के बाद खजाना भरने की बजाए राज्य को गरीबी और पिछड़ापन मिला। उन्होंने पूर्व की रघुवर सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि डबल इंजन सरकार ने राशन के लिए 11 लाख गरीब गुरबा के राशन कार्ड को ही डिलीट कर दिया। केंद्र की सरकार ने तो लॉकडाउन के दौरान गरीब मजदूरों को भूख से मरने के लिए उन्हें सड़कों पर ही छोड़ दिया था लेकिन अपने राज्य के गरीब मजदूरों को उस विकट स्थिति में हवाई जहाज से उन्हें वापस घर पहुंचाने वाला देश का पहला राज्य बना।

चार बेटियों को योजना का लाभ मिलेगा

उन्होंने विपक्ष पर प्रहार करते हुए कहा कि विपक्ष पैसे के दम पर एन-केन-प्रकरेण विधायकों को तोड़ना और राज्य सरकार की छवि खराब करने काम करती है। उन्होंने कहा कि बेटियों को भी बोझ नहीं बनने देने के लिए सावित्री बाई फुले योजना के तहत चार बेटियों को योजना का लाभ मिलेगा।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.