shiv-sena-hindustan-opposed-the-installation-of-7-lakh-smart-electricity-meters-asked-to-withdraw-the-decision
shiv-sena-hindustan-opposed-the-installation-of-7-lakh-smart-electricity-meters-asked-to-withdraw-the-decision

शिव सेना हिन्दुस्तान ने 7 लाख स्मार्ट बिजली मीटर लगाने का किया विरोध, फैसला वापस लेने को कहा

जम्मू, 14 जून (हि.स.)। हिन्दुस्तान शिव सेना के प्रदेश अध्यक्ष विक्रांत कपूर ने जम्मू व कश्मीर यूटी में 7 लाख स्मार्ट बिजली मीटर लगाने के सरकार के कदम का सोमवार को कड़ा विरोध किया है। उन्होंने सरकार को चेतावनी दी है कि अगर उसने अपने इस जनविरोधी फैसले को तत्काल से वापस नहीं लिया तो शिव सेना हिन्दुस्तान इसके खिलाफ व्यापक आंदोलन शुरू कर देगी। हिन्दुस्तान शिव सेना के प्रदेश अध्यक्ष विक्रांत कपूर ने आज यहां एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए यह विचार प्रकट किए। बताते चलें कि सरकार ने जम्मू व कश्मीर यूटी में एक साल के भीतर 7 लाख स्मार्ट बिजली मीटर लगाने का फैसला किया है। यह मीटर शहरी और औद्योगिक क्षेत्रों वाले कस्बों में प्राथमिकता के आधार पर लगाए जायेंगें। विक्रांत कपूर ने कहा कि धारा 370 और 35 ए हटाने का जम्मूवासियों ने इस उम्मीद के साथ जोरदार तरीके से स्वागत किया था कि उनके साथ दशकों से चला आ रहा भेदभाव अब समाप्त हो जायेगा। उन्होंने कहा कि लेकिन यूटी बनने के बाद से सरकार ने जम्मूवासियों पर एक के बाद एक करके नया टैक्स लगाकर जम्मूवासियों को करों के बोझ तले दबा दिया है जिससे जम्मूवासियों की सारी उम्मीदों और आकांक्षाओं पर पानी फिर गया है। कपूर ने कहा कि पहले जम्मू को टोल प्लाजाओं का शहर बनाया गया और जम्मूवासियों से भारी भरकम पैसा वसूला जा रहा है। उन्होंने कहा कि एक ओर लोग कोरोना महामारी की मार झेल रहे हैं और इससे सारे कारोवार ठप्प होकर रह गए हैं। वहीं दूसरी ओर यूटी प्रशासन आए दिन जम्मूवासियों पर कोई न कोई नया कर लगाकर उनको करों के बोझ तले दबाने का सिलसिला लगातार जारी रखे हुए है। उन्होंने कहा कि हिन्दुस्तान शिव सेना इसे किसी भी कीमत पर स्वीकार नहीं करेगी। उन्होंने कहा कि शहरी क्षेत्रों और औद्योगिक कस्बों में प्राथमिकता के आधार पर इन स्मार्ट बिजली मीटरों को लगाने से इसका सीधा असर व्यापारिक समुदाय और उद्योगपतियों पर पड़ेगा जो पहले ही कोरोना महामारी के चलते जारी लॉकडाउन से काफी हद तक आर्थिक नुकसान झेल चुके हैं। उन्होंने आगे कहा कि जम्मू व कश्मीर से पैदा होने वाली बिजली पर सबसे पहला अधिकार राज्यवासियों का है। उन्होंने कहा कि जम्मू व कश्मीर से पैदा होने वाली बिजली की आपूर्ति सबसे पहले जम्मू कश्मीर के निवासियों में की जाये और उनको चौबीसों घंटे बिजली की आपूर्ति की जाये। उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार जम्मू कश्मीर से बिजली पैदा करके इसके निवासियों को ही मंहगी दरों पर बिजली की आपूर्ति कर रही है जिसका वह कड़ा विरोध करते हैं। उन्होंने उपराज्यपाल मनोज सिन्हा से आग्रह किया कि वह इस मामले में हस्तक्षेप करते हुए सरकार के इस फैसले को वापस लेने में अपनी भूमिका अदा करें ताकि जम्मूवासियों को राहत मिल सके। संवाददाता सम्मेलन में हिन्दुस्तान शिव सेना के वरिष्ठ नेता सुनील दबगोत्रा, अनूप तरिखा, बाबा राम कैथ, अभिषेक, हिमांशु, अमित, महिला इकाई की नेता सपना कोहली, तनु वर्मा और अन्य भी मौजूद थे। हिन्दुस्थान समाचार/अमरीक/बलवान

Related Stories

No stories found.