those-who-break-the-rules-in-the-corona-era-get-bail-without-bail-for-six-months-shanta-kumar
those-who-break-the-rules-in-the-corona-era-get-bail-without-bail-for-six-months-shanta-kumar

कोरोना काल में नियम तोड़ने वालों को मिले विना जमानत छ महीने की सजा : शान्ता कुमार

पालमपुर, 20 मई (हि. स.)। हिमाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शान्ता कुमार ने कहा कि हिमाचल और कांगड़ा में कोरोना बढ़ता जा रहा है। गांव में फैली बिमारी का पूरा हिसाब सरकार के पास नही आ रहा। मरने वालों की संख्या बढ़ रही है। कांगड़ा सबसे अधिक पीड़ित है अभी यह हाल है तो तीसरी लहर के आने पर क्या होगा। सरकार और जनता को गहराई से विचार करना चाहिए और कठोर निर्णय करने चाहिए। उन्होंने कहा कि इस दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति का सबसे बड़ा कारण सरकार और जनता की लापरवाही है। एक तरफ रोज लोग मर रहे हैं। दूसरी तरफ धामें और भण्डारे हो रहे हैं। यह वो है जो पकड़े जा रहे हैं। प्रदेश के हजारों गांव में कहां किस प्रकार नियमों की धज्जियां उठाई जा रही है। इसका पूरा हिसाब कहीं नही मिल रहा है। शान्ता कुमार ने जयराम ठाकुर ओर प्रदेश के सभी जिम्मेवार नेताओं से निवेदन किया है कि भारत सदा से एक महारोग से पीड़ित रहा है। यह रोग है - नियम न निभाना, कर्तव्य का ईमानदारी से पालन न करना। इसी कारण 72 साल की आजादी के बाद भी हम गरीबी और बेरोजगारी से सिसक रहे हैं। देश के 75 प्रतिशत लोग ईमानदारी से कर्तव्य पालन करते है परन्तु 25 प्रतिशत लोग पूरे देश के किये कराये को समाप्त कर देते है। यही आज हो रहा है। उन्होंने कहा यदि शुरू से सभी नियमों का शत- प्रतिशत पालन किया होता तो आज इस प्रकार सैंकड़ों घरों में मातम न दिखाई देता। शान्ता कुमार ने सरकार से आग्रह किया है कि सख्ती और बढ़ाये। किसी प्रकार का कोई समागम कहीं पर बिल्कुल न हो। सभी सरकारी कार्यक्रम वच्र्युल हों। नियम तोड़ने वाले और इस संकट में भी भ्रश्टाचार करने वालों को ऐसे कानून में गिरफ्तार किया जाए जिसमें कम से कम छ महीने तक कोई जमानत न हो सके। नियम निभाने का यह काम ऊपर से मन्त्रियों से शुरू किया जाए। यदि ऐसा न किया तो तीसरी लहर आने के बाद क्या होगा - सोच कर ही डर लगता है। हिन्दुस्थान समाचार/सुनील/उज्जवल

Related Stories

No stories found.