tenzin-set-out-on-a-march-from-los-angeles-to-mclodganj-on-foot
tenzin-set-out-on-a-march-from-los-angeles-to-mclodganj-on-foot

लोसर पर मैकलोड़गंज से दिल्ली के लिए पैदल मार्च पर निकले तेंजिन

धर्मशाला, 12 फरवरी (हि.स.)। तिब्बती लेखक और कार्यकर्ता तेंजिन सुंडू भारत की वन-चाइना नीति को निरस्त करने सहित तिब्बत से जुड़े मुद्दों को लेकर तिब्बतियों के नववर्ष लोसर के पहले दिन मैकलोड़गंज से दिल्ली के लिए पैदल मार्च पर निकले। तंेजिन ने अपनी इस यात्रा को ‘लोसर’ से शुरू किया जिसे वह करीब एक माह के बाद 10 मार्च को तिब्बती राष्ट्रीय विद्रोह दिवस पर दिल्ली पंहुचकर पूरा करेंगे। पैदल मार्च पर निकलने से पूर्व तिब्बती संगठनों ने उन्हें शुभकामनाएं दी। मैकलोड़गंज चौक पर सुबह तेंजिन को पैदल मार्च के लिए शुभ्कामनाएं देने तिब्बती वर्ग के काफी लोग मौजूद रहे। वहीं अपने इस मार्च को लेकर तेंजिन ने बताया कि उनके इस पैदल मार्च का मुख्य उद्देश्य तिब्बत पर भारत का ध्यान केंद्रित करना है। उनका कहना है कि अपने इस पैदल मार्च के दौरान वह मैकलोड़गंज से दिल्ली तक करीब 500 किलोमीटर का सफर अकेले तय करेंगे। हालांकि उनके साथ दो समर्थक साथ रहेंगे। अपने पैदल मार्च के दौरान वह हिमाचल से पंजाब में प्रवेश करने पर श्री आंनदपुर साहिब गुरूद्वारा में माथा टेकेंगे तथा फिर वहां से मोहाली, पंचकुला और चंडीगढ़ तथा करनाल, अंबाला और सोनीपत होते हुए दिल्ली पंहुचेंगे। इस दौरान वह हर रात सड़क के किनारे बने रैन बसेरों में गुजारेंगे। वहीं मार्च के दौरान लोगों से जागरूक करने तथा उनका समर्थन लेने के लिए हस्ताक्षर भी करवाऐंगे। तेंजिन का कहना है कि चीन न केवल भारत के साथ, बल्कि उसके अन्य पड़ोसी देशों के 14 देशों के साथ सीमा विवाद पैदा कर रहा है। उनका कहना है कि भारत की वन-चाइना नीति के पालन के बावजूद, चीन इस नीति का समर्थन नहीं करता है। इसके बजाय बीजिंग भारत के अरुणाचल प्रदेश, लद्दाख, हिमाचल और उत्तराखंड के कुछ हिस्सों सहित सिक्किम और भारत को कश्मीर पर संयुक्त राष्ट्र में ले गया है। इस सब के चलते एक महीने की यात्रा के दौरान वह भारत सरकार से उसके वन-चाइना नीति को निरस्त करने के लिए याचिका दायर करेंगे। उनका कहना है कि वह एक वैश्विक अभियान का नेतृत्व करेंगे जिसमें विभिन्न देशों के प्रमुखों को उनकी वन-चाइना नीति को निरस्त करने और मान्यता देने के लिए याचिका दायर की जाएगी। गौर हो कि तिब्बत की आजादी के समर्थकों में से एक तंेजिन एक बेहतरीन लेखक भी हैं। उन्होंने कई किताबें भी लिखी हैं। चीन के खिलाफ किसी भी तरह के संर्घष और आंदोलन के लिए वह हमेशा आगे रहे हैं। हिन्दुस्थान समाचार/सतेंद्र/उज्जवल-hindusthansamachar.in

Related Stories

No stories found.