Loksabha Election: हरियाणा की अनोखी सीट, जहां ससुर और दो बहुएं हैं आमने-सामने, क्या कहता है गणित

चौटाला परिवार उतरा हरियाणा से हिसार सीट पर रण में। दोनों बहुओं ने उठाएं किसानों के मुद्दे तो वहीं, रणजीत चौटाला का दावा कि जीतेंगे तो प्रधानमंत्री ही।
Ranjeet Chautala Naina Chautala Sunaina Chautala
Ranjeet Chautala Naina Chautala Sunaina Chautalaraftar.in

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क। हरियाणा के हिसार लोकसभा क्षेत्र में एक रोमांचक चुनावी लड़ाई देखने को मिलने वाली है। यहां राजनीतिक ग्राउंड पर चौटाला परिवार के तीन सदस्य आमने-सामने हैं। जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) की विधायक नैना चौटाला और इंडियन नेशनल लोकदल (आईएनएलडी) की उम्मीदवार सुनैना चौटाला दोनों आमने-सामने हैं। बताते चलें कि दोनों चौटाला परिवार की बहुएं है और भाजपा की टिकट से इनके काका ससुर रणजीत सिंह चौटाला भी इसी सीट से इनके सामने चुनावी रण में है।

चौटाला परिवार का गणित

यह परिवार पूर्व उप प्रधानमंत्री देवालाल का है, जिनके चार बेटे रहे। इनके नाम है ओम प्रकाश चौटाला, प्रताप चौटाला, रणजीत चौटाला और जगदीश चौटाला। ओम प्रकाश चौटाला की बहु नैना चौटाला जेजेपी प्रमुख हैं। तो वहीं, प्रताप चौटाला की बहु सुनैना चौटाना इनेलो महिला विंग की महासचिव है।

तीनों ने रखी अपनी-अपनी बात

सुनैना चौटाला ने कहा कि मतदाता 13 महीने तक चले किसानों के मुद्दे को भूले नहीं हैं। उनकी पार्टी किसानों के विरोध के मुद्दे पर उनके भाजपा और जेजेपी प्रतिद्वंद्वियों का सामना करेगी। साथ ही कहा कि भाजपा शासन में किसान, आंगनवाड़ी और आशा कार्यकर्ता, कर्मचारी और सरपंच अपनी मांगों के समर्थन में आंदोलन की राह पर थे।

दूसरी ओर, नैना चौटाला ने कहा कि हर कोई जानता है कि किसानों का असली हितैषी कौन है क्योंकि उन्होंने कहा कि डिप्टी सीएम के रूप में उनके बेटे दुष्यंत चौटाला ने किसानों की उपज की समय पर खरीद के बाद उन्हें समय पर भुगतान सुनिश्चित किया था।

तो वहीं इस बीच, रणजीत चौटाला ने कहा कि वह अपने रिश्तेदारों के चुनाव मैदान में उतरने से चिंतित नहीं है और उन्होंने कहा कि चुनाव में उतरना 'लोकतांत्रिक अधिकार' है। उन्होंने विश्वास जताया कि भाजपा पिछले आम चुनाव की तरह ही हरियाणा की सभी 10 लोकसभा सीटें जीतेगी और नरेंद्र मोदी तीसरी बार प्रधानमंत्री बनेंगे।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.