Cyber Crime: फर्जी वेबसाइट से रहें सावधान! नहीं तो खाली हो जाएगा बैंक अकाउंट, इन बातों का रखें ध्यान

Haryana News: साइबर अपराधी लोगों से धोखाधड़ी करने के लिए एक नया तरीका वेबसाइट स्पूफिंग का प्रयोग कर रहे हैं। इसमें अपराधी फर्जी वेबसाइट बनाते है और लोगों के साथ धोखाधड़ी करते हैं।
Cyber Crime
Cyber CrimeSocial media

हिसार, हि.स.। पुलिस अधीक्षक मोहित हांडा ने जिले के नागरिकों को फर्जी वेबसाइट के जरिए हो रही धोखाधड़ी के प्रति जागरूक किया है। उन्होंने कहा है कि धोखाधड़ी करने के लिए एक तरीका वेबसाइट स्पूफिंग का भी है। इसमें अपराधी फर्जी वेबसाइट बनाते है और लोगों के साथ धोखाधड़ी करते हैं।

साइबर अपराधी ऐसे फंसाते हैं लोगों को

पुलिस अधीक्षक मोहित हांडा ने शनिवार को कहा कि लोग अपना ज्यादातर समय स्मार्टफोन या लैपटॉप पर बिताते हैं। ज्यादातर लोग अपने बैंकिंग से जुड़े कामकाज भी ऑनलाइन ही करते हैं। ऐसे में साइबर अपराधी भी इसका फायदा उठा रहे हैं। साइबर अपराधी लोगों को अपने झांसे में फंसाकर कुछ मिनटों में उनका बैंक अकाउंट खाली कर देते हैं। अपराधी लोगों के साथ धोखाधड़ी करने के लिए अलग-अलग तरीकों का इस्तेमाल करते हैं। इनमें से एक तरीका वेबसाइट स्पूफिंग का भी है। इसमें अपराधी फर्जी वेबसाइट बनाते हैं और लोगों के साथ धोखाधड़ी करते हैं।

E-mail पर फेक वॉयसमेल भेज कर फंसाते हैं लोगों को

इंटरनेट और डिजिटल के जमाने में देश एक तरफ जहां तरक्की की सीढ़ियों पर चल रहा है। वहीं दूसरी ओर साइबर क्राइम से जुड़े मामलों में तेजी देखने को मिली है। स्कैमर्स ने अब लोगों से पैसे ठगने का नया तरीका निकाल लिया है। इसके अनुसार, कामकाजी लोगों को टारगेट बनाकर उन्हें E-mail पर फेक वॉयसमेल भेज कर मोटी रकम निकलवाते हैं।

ये है धोखाधड़ी करने का तरीका

एसपी के अनुसार साइबर अपराधी फर्जी वेबसाइट का लिंक आपको ईमेल, एसएमएस, सोशल साइट्स के जरिए भेजते हैं, जिसमें आपको अकाउंट से संबंधित जानकारी को अपडेट या कन्फर्म करने के लिए कहा जाता है। इसके जरिए मकसद अकाउंट से संबंधित संवेदनशील जानकारी को चुराना होता है। इसमें आपकी इंटरनेट बैंकिंग यूजर आईडी, पासवर्ड, पिन, क्रेडिट/ डेबिट कार्ड, बैंक अकाउंट नंबर, कार्ड वेरिफिकेशन वैल्यू (CVV) नंबर आदि शामिल होता है।

खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.