Farmer Protest: MSP पर अड़े किसान, शंभू बॉर्डर पर पुलिस ने छोड़े आंसू गैस, सरकार ने भेजा बातचीत का न्यौता

Shambhu Border: शंभू बॉर्डर में पुलिस प्रशासन और आंदोलन करने उतरे किसानों के बीच घमासन आज फिर शुरु हो गया है। पुलिस ने आज फिर किसानों पर आंसू गैस के गोले दागे।
प्रदर्शनकारी किसानों पर पुलिस ने आंसू गैस के गोले बरसाए (लेफ्ट), कृषि मंत्री अर्जुन मुंडा (राइट)
प्रदर्शनकारी किसानों पर पुलिस ने आंसू गैस के गोले बरसाए (लेफ्ट), कृषि मंत्री अर्जुन मुंडा (राइट)Raftaar.in

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क। किसानों के दिल्ली कूच से आज शंभू बॉर्डर पर किसानों और हरियाणा पुलिस के बीच भीषण घमासान शुरु हो गया है। सैकड़ो की संख्या में आज किसान शंभू बॉर्डर पर पहुंचे हैं। MSP के मुद्दे पर केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंड्डा ने किसानों को बातचीत करने का न्यौता भेजा है।

आंसू गैस के गोलों की मार फिर शुरु

शंभू बॉर्डर पर आज फिर से पुलिस बल और किसानों के बीच घमासान छिड़ गया है। पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागे। MSP पर अड़े किसानों ने दिल्ली कूच को लेकर डटें हुए हैं। हरियाणा पुलिस ने गंभीर हालातों के मद्देनजर आज पंजाब और हरियाणा कोर्ट को पत्र लिखकर मामले की स्थिति के बारे में जानकारी दी। हरियाणा के DGP ने पंजाब के DGP को भी पत्र लिखा।

केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंड्डा ने भेजा न्यौता

शंभू बॉर्डर पर चल रहे युद्ध स्तरीय घमासान को देखते हुए केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंड्डा ने आज कहा कि- 'हम किसानों की हर मांगों पर बातचीत करने के लिए तैयार हैं। ऐसे मुद्दों पर शांति से से बातचीत होनी चाहिए। ये मेरी अपील है कि आप सब शांति बनाए रखें।' इस पर किसान नेता सरवन सिंह पंढेर ने कहा कि 'अब तो फैसला लेने का वक्त है, सरकार अगर MSP कानून बनाती है तो हम ये आंदोलन बंद कर देंगे।'

किसानों ने सरकार का प्रस्ताव किया खारिज

रविवार को हुई बैठक में केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंड्डा, पीयुष गोयल और नित्यानंद राय साथ ही पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान और किसान नेता सरवन सिंह पंढेर और जगजीत सिंह डल्लेवाल शामिल हुए थे। इस बैठक में सरकार ने किसानों को तीन फसलों पर 5 साल के लिए MSP लागू करने का प्रस्ताव दिया था। जिसमें कपास, दाल और मक्का शामिल है। इस पर किसान नेताओं ने सोमवार की शाम को इस प्रस्ताव को खारिज कर दिया। इसी कारण आज से किसानों ने दिल्ली कूच को लेकर फिर कदम बढ़ा लिए हैं।

खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.