Vibrant Gujarat Global Summit: बंदरगाह-आधारित शहरी विकास पर सेमिनार का होगा आयोजन, 90,000 रोजगार के अवसर

Vibrant Gujarat Global Summit: 11 जनवरी 2024 को गुजरात में मैरिटाइम बोर्ड “बंदरगाह-आधारित शहरी विकास: भविष्य के लिए विज़न” विषय पर आधारित एक इंटरैक्टिव सेमिनार का आयोजन होगा।
Vibrant Gujarat Global Summit 2024
Vibrant Gujarat Global Summit 2024raftaar.in

गांधीनगर, (हि.स.)। वाइब्रेंट गुजरात ग्लोबल समिट के तहत 11 जनवरी 2024 को गुजरात में मैरिटाइम बोर्ड “बंदरगाह-आधारित शहरी विकास: भविष्य के लिए विज़न” विषय पर आधारित एक इंटरैक्टिव सेमिनार का आयोजन होगा। यह सेमिनार गांधीनगर स्थित महात्मा मंदिर के सेमिनार हॉल नंबर 1 में सुबह 10 बजे से दोपहर 1 बजे तक आयोजित किया जाएगा।

विकास की संभावनाओं का पता लगाने और उन्हें प्रोत्साहित करने के लिए आयोजित

गुजरात मेरिटाइम बोर्ड के वाइस चेयरमैन राजकुमार बेनिवाल (आईएएस) ने मंगलवार को गांधीनगर में आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया की कि, “य़ह कार्यक्रम शहरी प्रणाली में बंदरगाह-आधारित विकास की संभावनाओं का पता लगाने और उन्हें प्रोत्साहित करने के लिए आयोजित किया जा रहा है। इस आयोजन में कई वरिष्ठ सरकारी अधिकारी, इंडस्ट्री लीडर्स, अंतरराष्ट्रीय निवेश और मैरिटाइम अथॉरिटी से कई विशेषज्ञ और विचारक शामिल होंगे।

विकास से जुड़े पहलुओं और उद्देश्यों के बारे में जानकारी देगा

सेमिनार का उद्घाटन सत्र बंदरगाह-आधारित शहरी विकास से जुड़े पहलुओं और उद्देश्यों के बारे में जानकारी देगा कि कैसे ये सेक्टर गुजरात के आर्थिक विकास और सस्टेनेबिलिटी में अपना योगदान दे सकता है। गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेन्द्र पटेल, केंद्रीय बंदरगाह, जहाजरानी और जलमार्ग मंत्री सर्बानंद सोनोवाल, भारत में बेल्जियम के राजदूत डिडिएर वेंडरहासेल्ट, भारत, भूटान और नेपाल में नीदरलैंड की राजदूत मारिसा जेरार्ड्स उद्घाटन सत्र को संबोधित करेंगे।

पहली पैनल चर्चा:- बंदरगाह आधारित (पोर्ट-लेड) आर्थिक अवसर

बेनीवाल ने बताया कि इस सत्र में बंदरगाहों के माध्यम से आर्थिक विकास के विभिन्न पहलुओं पर गहराई से विचार-विमर्श होगा। साथ ही यह भी पता चलेगा कि बंदरगाह कैसे आर्थिक समृद्धि में अपना योगदान दे सकते हैं। सेमिनार के दौरान कई प्रमुख वक्ता सभा को संबोधित करेंगे जिनमें एपीएम टर्मिनल्स के एशिया और मिडल ईस्ट के चीफ एग्ज़ीक्यूटिव जॉनथन गोल्डनर, एडी पोर्ट्स ग्रुप के रीजनल सीईओ मोहम्मद ईदा अलमेन्हाली, डीपी वर्ल्ड में भारतीय उपमहाद्वीप और उप-सहारन अफ्रीका के सीईओ एंड एमडी रिज़वान सूमर, जेएम बाक्सी ग्रुप के प्रबंध निदेशक ध्रुप कोटक और एपीएसईजेड के सीईओ (पोर्ट्स) सुब्रत त्रिपाठी का नाम शामिल हैं।

दूसरी पैनल चर्चा- शहरी और औद्योगिक विकास के साथ बंदरगाहों का एकीकरण

यह शहरी और औद्योगिक विकास के साथ बंदरगाहों के एकीकरण पर एक दूरदर्शी परिप्रेक्ष्य प्रदान करते हुए कैसे यह रणनीतिक सम्मेलन आर्थिक विकास और स्थिरता के भविष्य को आकार दे सकता है, इस बारे में चर्चा होगी। इस सेमिनार में मुंबई में नीदरलैंड के महावाणिज्यदूत बार्ट डी जोंग, विश्व बैंक के कंट्री निदेशक अगस्टे तानो कौमे, गांधीधाम में दीनदयाल पोर्ट अथॉरिटी (डीपीए) के चेयरमैन एस.के. मेहता, आर्सेलरमित्तल निप्पॉन स्टील कंपनी में भारत में पोर्ट संचालन और विकास के प्रमुख मनोरंजन कुमार, ऑलकार्गो लॉजिस्टिक्स लिमिटेड के अध्यक्ष शशि किरण शेट्टी शामिल होंगे।

आईआईएफएस से प्रस्तावित निवेश 1.5 लाख करोड़ रुपए है

उन्होंने बताया कि वाइब्रेंट गुजरात ग्लोबल समिट 2024 रनअप में गुजरात मैरीटाइम बोर्ड ने 140 से अधिक इन्वेस्ट इन्टेन्शन फॉर्म (आईआईएफएस) और लगभग 50 स्ट्रैटजिक पार्टनरशिप एमओयू किए हैं। आईआईएफएस से प्रस्तावित निवेश 1.5 लाख करोड़ रुपए है, जिससे 90,000 रोजगार के अवसर पैदा हो सकते हैं। वाइब्रेंट गुजरात ग्लोबल समिट 2024 में अदानी पोर्ट्स एंड सेज, डीपी वर्ल्ड, आर्सेलरमित्तल निप्पॉन स्टील इंडिया, रेडस्टैक, गुजरात पिपावाव पोर्ट लिमिटेड, एचपीसीएल मित्तल एनर्जी लिमिटेड, एस्सार पोर्ट्स लिमिटेड, इंडियन पोर्ट रेल एंड रोपवे कंपनी लिमिटेड, सागरमाला डेवलपमेंट कंपनी लिमिटेड, दीनदयाल पोर्ट अथॉरिटी, गुजरात रेल इन्फ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट लिमिटेड (जी-राइड) आदि के शामिल होने की उम्मीद है।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.