सूडान में फंसे भारतीयों को निकानले की मुहिम जारी, 500 लोग पहुंचे सूडान पोर्ट

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने सोमवार को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि सूडान में फंसे हमारे नागरिकों को वापस लाने के लिए ऑपरेशन ‘कावेरी’ चल रहा है।
सूडान में फंसे भारतीयों को निकानले की मुहिम जारी
सूडान में फंसे भारतीयों को निकानले की मुहिम जारी

नई दिल्ली, एजेंसी। गृहयुद्ध की मार झेल रहे अफ्रीकी देश सूडान से भारतीयों को सुरक्षित निकालने की मुहिम जारी है और इस क्रम में 500 भारतीयों को पोर्ट सूडान पर पहुंचाया गया है, जहां से उन्हें भारत लाया जाएगा।

500 भारतीय सूडान पोर्ट पहुंचे

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने सोमवार को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि सूडान में फंसे हमारे नागरिकों को वापस लाने के लिए ऑपरेशन ‘कावेरी’ चल रहा है। करीब 500 भारतीय पोर्ट सूडान पहुंच गए हैं और कुछ रास्ते में हैं। हमारे जहाज और विमान उन्हें वापस लाने के लिए तैयार हैं। सूडान में हमारे सभी भाइयों की सहायता करने के लिए हम प्रतिबद्ध हैं। उल्लेखनीय है कि भारत सूडान से भारतीयों को निकालने के लिए अन्य साझेदार देशों से सहयोग ले रहा है। हाल ही में फ्रांस ने 5 भारतीयों को अपने नागरिकों के लिए चलाए गए निकासी अभियान में वहां से निकाला। इससे पहले सऊदी अरब ने भी अपने नागरिकों के साथ कुछ भारतीयों को संकटग्रस्त सूडान से निकाला था।

सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए हर संभव प्रयास कर रही

विदेश मंत्रालय का कहना है कि केंद्र सरकार सूडान में जटिल और उभरती सुरक्षा परिस्थितियों पर बारीकी से नजर बनाए हुए है और वहां फंसे भारतीयों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है। मंत्रालय का कहना है कि हम सूडान में फंसे और वहां से निकलना चाह रहे भारतीयों की सुरक्षित वापसी के लिए विभिन्न सहयोगियों के साथ समन्वय कर रहे हैं। सूडानी अधिकारियों के अलावा विदेश मंत्रालय और सूडान में भारतीय दूतावास भी संयुक्त राष्ट्र, सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात, मिस्र और अमेरिका के साथ नियमित संपर्क में हैं।

आईएनएस सुमेधा पोर्ट सूडान पहुंच गया

भारत कई विकल्पों पर काम कर रहा है। दो भारतीय वायुसेना सी-130जे वर्तमान में जेद्दाह में स्टैंडबाय पर तैनात हैं और आईएनएस सुमेधा पोर्ट सूडान पहुंच गया है। मंत्रालय के अनुसार खार्तूम में विभिन्न स्थानों पर भयंकर लड़ाई के कारण हालात नाजुक बने हुए हैं। सूडानी हवाई क्षेत्र वर्तमान में सभी विदेशी विमानों के लिए बंद है। ओवरलैंड मूवमेंट में जोखिम और तार्किक चुनौतियां भी होती हैं। उल्लेखनीय है कि सूडान में सत्ता के लिए अर्द्धसैनिक बलों और सेना के बीच गतिरोध जारी है। इस हिंसक संघर्ष में अबतक 400 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है।

Related Stories

No stories found.