सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म 'X' पर क्यों ट्रेंड हो रहा #Democracy_Under_Attack, जानें क्या है इसके पीछे की वजह

New Delhi: 'X' पर आज 'Democracy Under Attack' लोकतंत्र पर हमला नम्बर वन पर ट्रेंड कर रहा है। इस पोस्ट को कांग्रेस ने 'X' पर पोस्ट किया है।
Democracy Under Attack trending on 'X'
Democracy Under Attack trending on 'X' Raftaar.in

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क। सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म 'X' पर आज 'Democracy Under Attack' यानि की 'लोकतंत्र पर हमला' नम्बर वन पर ट्रेंड कर रहा है। इसका श्रेय विपक्षी दल कांग्रेस पार्टी को जाता है। आज सुबह नई दिल्ली में कांग्रेस नेता अजय माकन ने प्रेस कांफ्रैंस कर मीडिया को बताया कि 'आयकर विभाग ने कांग्रेस के 4 बैंक खातों को फ्रीज कर दिया है।' साथ ही आयकर विभाग ने कांग्रेस पर 210 करोड़ रुपये की पेनल्टी भी लगाई है। इस पर कांग्रेस ने कहा- 'कांग्रेस के बैंक खातों को फ्रीज करने का मतलब है लोकतंत्र को फ्रीज करना।'

कांग्रेस ने एक्स पर दी प्रतिक्रिया

कांग्रेस ने BJP पर लोकतंत्र पर हमला करने का आरोप लगाया है। साथ ही कांग्रेस ने 'X' पर ट्वीट कर BJP पर निशाना साधा और कहा- BJP भारत में लोकतंत्र को कमजोर करना चाहती है। राहुल गांधी ने

राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर साधा निशाना

राहुल गांधी ने आज 'भारत जोड़ों न्याय यात्रा' के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर 'X' पर निशाना साधा कहा- डरो मत मोदी जी, कांग्रेस धन की ताकत का नहीं, जन की ताकत का नाम है। हम तानाशाही के सामने न कभी झुके हैं, न झुकेंगे। भारत के लोकतंत्र की रक्षा के लिए हर कांग्रेस कार्यकर्ता जी जान से लड़ेगा।

युवा कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने किया विरोध प्रदर्शन

इंडियन यूथ कांग्रेस (IYC) अध्यक्ष श्रीनिवास बी वी और युवा कांग्रेस के बैंक खातों को फ्रीज करने के केंद्र के फैसले के खिलाफ संसद के पास विशाल विरोध प्रदर्शन का नेतृत्व करते हुए इसे लोकतंत्र पर हमला बताया गया।

कांग्रेस पर क्यों लगा 210 करोड़ रुपये की पेनल्टी?

दरअसल, आयकर विभाग (Income Tax Department) ने कांग्रेस और भारतीय युवा कांग्रेस के 4 बैंक खातों को फ्रीज कर दिया था। अजय माकन ने कहा कि यह कार्रवाई वर्ष 2018-19 के लिए IT रिटर्न दाखिल करने में 45 दिन की देरी के कारण हुई है। इसी कारण आयकर विभाग ने कांग्रेस पार्टी से 210 करोड़ रुपये की पेनल्टी लगा दी है।

खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.