ग्लोबल बाजार से सुस्त संकेत, एशियाई बाजारों में गिरावट

ग्लोबल मार्केट आज अभी तक दबाव के स्थिति में है। पिछले कारोबारी सत्र में वॉल स्ट्रीट लगातार दबाव का सामना करने के बाद सपाट स्तर पर बंद हुआ।
ग्लोबल बाजार से सुस्त संकेत, एशियाई बाजारों में गिरावट

नई दिल्ली, एजेंसी । ग्लोबल मार्केट आज अभी तक दबाव के स्थिति में है। पिछले कारोबारी सत्र में वॉल स्ट्रीट लगातार दबाव का सामना करने के बाद सपाट स्तर पर बंद हुआ। हालांकि इसके दो सूचकांक मामूली बढ़त के साथ बंद होने में सफल रहे, लेकिन पूरे सत्र के कारोबार में वॉल स्ट्रीट में अनिश्चितता के कारण दबाव साफ नजर आया। यूरोपीय बाजार भी पिछले कारोबारी सत्र में गिरावट के साथ बंद हुए। एशियाई बाजार भी आज लगातार दबाव के साथ काम कर रहे हैं। भारतीय बाजार और निक्केई इंडेक्स को छोड़ कर एशिया के सभी प्रमुख सूचकांक फिलहाल लाल निशान में बने हुए हैं।

पिछले कारोबारी सत्र के दौरान मंदी की आशंका और बैंकों के खराब प्रदर्शन की वजह से अमेरिकी बाजार दबाव में कारोबार करते नजर आए। डाओ जोंस 0.20 प्रतिशत की मामूली बढ़त के साथ 33,875.40 अंक के स्तर पर बंद हुआ। जबकि एसएंडपी 500 इंडेक्स ने 0.09 प्रतिशत की सांकेतिक तक बढ़त के साथ 4,137.04 अंक के स्तर पर पिछले सत्र के अपने कारोबार का अंत किया। दूसरी ओर नैस्डेक 0.29 प्रतिशत टूट कर 12,037.20 अंक के स्तर पर बंद हुआ।

जानकारों का कहना है कि अमेरिकी बाजार मंदी की आशंका को लेकर लगातार दबाव में बना हुआ है। इसके साथ ही बैंकों के खराब प्रदर्शन ने भी बाजार पर काफी दबाव डाला है। बैंकों के शेयरों में पिछले कारोबारी सत्र में भी लगातार गिरावट का रुख बना रहा। इस बीच फर्स्ट रिपब्लिक बैंक में नकदी का संकट होने की खबर से निवेशकों में घबराहट की स्थिति बन गई है। पहली तिमाही में ही बैंक डिपॉजिट में 41 प्रतिशत की गिरावट आई है। जिसके बाद बैंक का कुल डिपॉजिट 104 अरब डॉलर रह गया है। ये स्थिति तब है, जब बैंक में नकदी का संकट होने की खबर आने के बाद जेपी मॉर्गन ने 30 अरब डॉलर का नया निवेश किया है। बताया जा रहा है कि अगर बैंकिंग सेक्टर की हालत में तत्काल सुधार नहीं हुआ, तो बाजार पर दबाव और भी बढ़ सकता है। आज वॉल स्ट्रीट के अलग-अलग सूचकांक में लिस्टेड माइक्रोसॉफ्ट, मेटा, अल्फाबेट और अमेजन जैसी बड़ी कंपनियों के तिमाही नतीजे जारी होने वाले हैं। इन कंपनियों के नतीजों पर भी बाजार की चाल निर्भर करेगी।

पिछले कारोबारी सत्र के दौरान यूरोपीय बाजार भी गिरावट के साथ बंद हुए। एफटीएसई इंडेक्स 0.02 प्रतिशत कमजोरी के साथ 7,912.20 अंक के स्तर पर बंद हुआ। इसी तरह सीएसी इंडेक्स ने 0.04 प्रतिशत की गिरावट के साथ 7,573.86 अंक के स्तर पर पिछले सत्र के अपने कारोबार का अंत किया। इसके अलावा डीएएक्स इंडेक्स 0.11 प्रतिशत टूट कर 15,863.95 अंक के स्तर पर बंद हुआ।

एशियाई बाजार भी आज लगातार दबाव में कारोबार कर रहे हैं। निक्केई इंडेक्स फिलहाल 0.26 प्रतिशत की तेजी के साथ 28,667.26 अंक के स्तर पर कारोबार कर रहा है। इसके अलावा एशिया के सभी सूचकांक गिरावट के साथ लाल निशान में बने हुए हैं। एसजीएक्स निफ्टी 0.6 प्रतिशत गिरकर 17,747.50 अंक के स्तर पर कारोबार कर रहा है। इसी तरह स्ट्रेट्स टाइम्स इंडेक्स 0.75 प्रतिशत की कमजोरी के साथ 3,299.54 अंक के स्तर पर बना हुआ है।

अभी तक के कारोबार में सबसे बड़ी गिरावट कोस्पी इंडेक्स में नजर आ रही है, जो 1.81 प्रतिशत टूटकर 2,477.79 अंक के स्तर तक पहुंच गया है। इसी तरह हैंग सेंग इंडेक्स 324.09 अंक यानी 1.62 प्रतिशत की कमजोरी के साथ 19,635.85 अंक के स्तर पर कारोबार कर रहा है। वही ताइवान वेटेड इंडेक्स 207.57 अंक यानी 1.33 प्रतिशत फिसल कर 15,419.30 अंक के स्तर पर पहुंच गया है। इसके अलावा सेट कंपोजिट इंडेक्स 0.53 प्रतिशत की कमजोरी के साथ 1,549.56 अंक के स्तर पर और शंघाई कंपोजिट इंडेक्स 0.35 प्रतिशत की गिरावट के साथ 3,264.02 अंक के स्तर पर कारोबार कर रहे हैं।

Related Stories

No stories found.