Delhi: उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ आज करेंगे 'हमारा संविधान, हमारा सम्मान' अभियान का उद्घाटन

New Delhi: आज डॉ. आंबेडकर इंटरनेशनल सेंटर में उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ 75वें वर्ष के उपलक्ष्य में सालभर चलने वाले अखिल भारतीय अभियान 'हमारा संविधान, हमारा सम्मान' का उद्घाटन करेंगे।
Jagdeep Dhankar
Jagdeep Dhankar Raftaar.in

नई दिल्ली, हि.स.। देश के उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ आज डॉ. आंबेडकर इंटरनेशनल सेंटर में भारतीय गणतंत्र के 75वें वर्ष के उपलक्ष्य में सालभर चलने वाले अखिल भारतीय अभियान 'हमारा संविधान, हमारा सम्मान' का उद्घाटन करेंगे। अभियान का उद्देश्य भारत के संविधान में निहित सिद्धांतों के प्रति सामूहिक प्रतिबद्धता की पुष्टि और देश को बांधने वाले साझा मूल्यों का जश्न मनाना है।

कानून मंत्री अर्जुन राम मेघवाल भी समरोह में होंगे शामिल

यह अभियान न्याय विभाग, विधि एवं न्याय मंत्रालय के तत्वावधान में चलेगा। इस राष्ट्रव्यापी पहल में संवैधानिक ढांचे में उल्लिखित आदर्शों को बनाए रखने के लिए गर्व और जिम्मेदारी की भावना पैदा करने की परिकल्पना की गई है। यह प्रत्येक नागरिक को विभिन्न तरीकों से भाग लेने का अवसर देगा। इस मौके पर कानूनी जानकारी, कानूनी सलाह और कानूनी सहायता के लिए एकीकृत कानूनी इंटरफेस प्रदान करने के लिए न्याय सेतु की लॉन्चिग की जाएगी। इस कार्यक्रम में कानून और न्याय राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) अर्जुन राम मेघवाल और अटॉर्नी जनरल आर. वेंकटरमणी सम्मानित अतिथि के रूप में शामिल होंगे।

टेली-लॉ सिटीजन मोबाइल ऐप

इस मौक पर न्याय तक पहुंच योजना 'दिशा' की उपलब्धि पुस्तिका का विमोचन होगा। दिशा योजना के तहत टेली लॉ प्रोग्राम ने टेली-लॉ सिटीजन मोबाइल ऐप के उपयोग और देश के 36 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में स्थित 2.5 लाख सामान्य सेवा केंद्रों (सीएससी) के माध्यम से 67 लाख से अधिक नागरिकों को मुकदमे-पूर्व सलाह के लिए जोड़ा गया है। देश भर के कॉमन सर्विस सेंटरों के 650 से अधिक टेली-लॉ पदाधिकारी, प्रो बोनो लॉ कॉलेजों के छात्र और संकाय इस कार्यक्रम में भाग लेंगे।

कानूनी जागरुकता

कानून के नियमों की जानकारी के लिए जरुरी है कि लोगों को इसके प्रति जागरुक करना जरुरी है। यदि हर नागरिक अपने अधिकारों और कानूनी नियमों के बारे में जागरुक होगा तभी हमारे देश का विकास होगा। सरकार को इसके प्रकि जागरुकता अभियान चलाना चाहिए।
खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.