US-Indo: अमेरिकी राजदूत ने भारतीय छात्रों की मौत पर की वकालत, कहा- अमेरिका पढ़ने-रहने की शानदार सुरक्षित जगह

New Delhi: अमेरिका में बढ़ते भारतीयों छात्रों की हत्या की घटनाओं पर अमेरिकी राजदूत एरिक गार्सेटी ने प्रतिक्रया दी। उन्होंने अमेरिका को सबसे शानदार और सुरक्षित जगह बताया।
US Ambassador Eric Garcetti
US Ambassador Eric GarcettiRaftaar.in

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क। अमेरिका में पढ़ने वाले भारतीय छात्रों की सुरक्षा को लेकर नई दिल्ली में अमेरिकी राजदूत एरिक गार्सेटी ने शुक्रवार को कहा कि "अमेरिका पढ़ने और रहने के लिए एक अद्भुत और सुरक्षित जगह है।" पिछले 1 साल से अमेरिका में भारतीय छात्रों की हत्या की घटनाएं रुकने का नाम नहीं ले रही हैं। अमेरिका में बढ़ते अपराधों की सूची में लगाम लगाना जरुरी है।

अमेरिकी राजदूत ने की अमेरिका की वकालत

ANI से बातचीत करने के दौरान, अमेरिकी राजदूत एरिक गार्सेटी ने कहा- "ऐसी घटनाएं सामने आने पर उनका दिल भर जाता है, फिर चाहे कोई किसी की जान ले या कोई हिंसा हो, फिर चाहे वो कोई भी हो। हम यह सुनिश्चत करते हैं कि भारतीय यह जानें कि अमेरिका सुरक्षित रहने के लिए एक शानदार जगह है।" उन्होंने आगे कहा कि "पूरी दुनिया में भारतीय छात्र सबसे ज्यादा अमेरिका में पढ़ने जाते हैं। 2023 में अमेरिका ने भारतीय छात्रों को 2,00,000 वीजा दिए।" अमेरिकी राजदूत एरिक गार्सेटी भारत में 26वें अमेरिकी राजदूत हैं। उन्होंने मार्च 2023 में नई दिल्ली में स्थित अमेरिकी राजदूत में अपना कार्यभार संभाल रहे हैं।

इस साल में अबतक 3 भारतीय छात्र, और 2 भारतीय नागरिक की हत्या

अमेरिका में भारतीय नागरिक और भारतीय छात्रों के बढ़ते मामले थमने का नाम ही नहीं ले रहे। एक के बाद एक चौंकाने वाले मामले सामने आ रहे हैं। हाल ही में सोशल मीडिया पर एक वीडियो तेजी से वायरल हुआ जिसमे देखा गया कि एक होमलेस नशे में आदी व्यक्ति ने 25 वर्षीय भारतीय छात्र विवेक सैनी पर लगातार हथौड़े से हमला किया। जिससे विवेक सैनी की मौके पर मौत हो गई। बताया गया कि अमेरिका के जॉर्जिया राज्य के लिथोनिया शहर में एक स्टोर पर पार्ट टाइम जॉब करता था। विवेक सैनी ने कई बार उस होमलेस व्यक्ति को खाना दिया। नशे में धुल उस व्यक्ति ने विवेक सैनी की जान ली।

भारतीय नागरिक भी अमेरिका में सुरक्षित नहीं

2 फरवरी को वाशिंगटन पुलिस की रिपोर्ट के अनुसार एक भारतीय मूल का व्यक्ति जिसका नाम विवेक तनेजा है। वह अमेरिका में वर्जिनिया में रहता था। विवेक तनेजा डायनेमो टेक्नोलॉजी के सह-संस्थापक और अध्यक्ष थे। बताया जा रहा है कि 41 वर्षीय विवेक तनेजा, अपने ऑफिस के अन्य 2 सहकर्मियों के साथ एक जापानी रेस्टोरेंट गए हुए थे। जहां उनकी किसी व्यक्ति के साथ किसी बात को लेकर बहस हो गई और बात हाथापाई तक पहुंच गयी। इस हाथापाई में वो सिर के बल नीचे गिर गए, जिससे गंभीर चोट लगने के कारण उनकी मौत हो गई।

गन वायलंस का भी रहता है कौफ

अमेरिका में गन रखना कोई बड़ी बात नहीं है खुलेआम वहां छोटी से लेकर बड़ी बंदुकें आसानी से मिल जाती हैं। जिसे वहां गन कल्चर भी कहा जाता है। इसी कारण वहां गन वायलंस पर सरकार और पुलिस प्रशासन की ढील देखी गई है। गन वायलंस सबसे ज्यादा अमेरिकी स्कूलों में देखा गया है, जिससे अबतक हजारों की संख्या में स्कूली छात्र इसका शिकार बन चुके हैं।

सुरक्षा के मामले में फैल हुआ अमेरिका

अमेरिका न तो अपने नागरिकों की सुरक्षा कर पा रहा है और न ही भारतीय छात्रों की सुरक्षा कर पा रहा है। सुरक्षा-व्यवस्था छात्रों के लिए फैल हो चुकी है। अमेरिका में अपना सपना पूरे करने से पहले ही कई भारतीय छात्र अपनी जान गवां चुके हैं।

अन्य ख़बरों के लिए क्लिक करें - www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.